अच्छे शिक्षकों की कमी

एजेंसियां, नई दिल्ली। मानव संसाधन विकास मंत्री कपिल सिब्बल ने मंगलवार को बताया कि प्राथमिक स्कूलों में 12 लाख शिक्षकों की जरूरत है। देश में 10 लाख प्राथमिक शिक्षक कम हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षकों के मानकों में सुधार और उनकी तनख्वाह व उनके लिए अन्य सुविधाएं शीघ्र अतिशीघ्र बढ़ाई जाएंगी। उन्होंने राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद के 15वें स्थापना दिवस के अवसर पर यहां कहा कि शिक्षा तंत्र के लिए अच्छे शिक्षकों की उपलब्धता एक बड़ी चुनौती है। सिब्बल ने कहा, प्राथमिक स्तर पर 12 लाख और कक्षा नौवीं व दसवीं के लिए करीब 200,000 शिक्षकों की कमी है। उन्होंने यह भी कहा कि कम शिक्षित शिक्षकों की संख्या अतिरिक्त है। देश में शिक्षा का अधिकार कानून लागू होने के बाद से शिक्षक प्रशिक्षण एक प्रमुख मुद्दा बन गया है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने हाल ही में राज्यों के शिक्षा मंत्रियों से शिक्षा का अधिकार लागू करने से संबंधित शिक्षक प्रशिक्षण सहित कई मुद्दों पर कई बार चर्चा की है।

शिक्षा का अधिकार कानून ने स्कूलों में शिक्षकों की शिक्षा के लिए कड़े मानदंड स्थापित किए हैं।  सिब्बल ने कहा कि राज्यों को शिक्षकों की गुणवत्ता निखारने की दिशा में बहुत ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा, हम राज्यों के साथ लगातार संवाद में हैं, कुछ ने इस दिशा में कदम भी उठाए हैं, लेकिन जब तक शिक्षकों के लिए बेहतर तनख्वाह और अन्य सुविधाएं उपलब्ध नहीं होंगी, तब तक कुछ नहीं बदलेगा।

गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने हाल ही में देश भर के 60 लाख शिक्षकों के लिए जीवन व स्वास्थ्य बीमा योजना व एक आवासीय योजना को मंजूरी दी थी।

You might also like