अब विज्ञान से नहीं डरेंगे छात्र

अजय कुमार, मंडी

स्कूली बच्चों में साइंस के प्रति घटते रुझान को फिर बढ़ाने की तैयारी है। राज्य के स्कूलों में वैज्ञानिक अब्दुल कलाम की तरह ही विज्ञान को समझने वाले बच्चों की तलाश की जाएगी। इस साइंस प्रतियोगिता का शुभारंभ शिक्षा मंत्री आईडी धीमान करेंगे। पढ़ाई की किसी भी व्यक्ति के जीवन में अपनी महत्ता होती है, लेकिन आज के इस प्रतिस्पर्धा के दौर में पढ़ने-लिखने वाले होनहार छात्रांे के लिए न तो कोई मंच है और न ही कोई ऐसा कार्यक्रम, जिससे उनको अपनी प्रतिभा निखारने का अवसर मिले। इसके लिए पूरे प्रदेश में ऐसी प्रतिभाओं की खोज की जाएगी, जिनमें आगे बढ़ने की क्षमता हो। स्कूली बच्चों की विज्ञान आधारित साइंस प्रतियोगिता हिंदघोष विजन साइंस क्विज 2010 करवाई जा रही है। इस प्रतियोगिता में नौवीं कक्षा से लेकर जमा दो तक की कक्षाओं के छात्र हिस्सा लेंगे। हर सकूल से हर वर्ग में दो छात्र-छात्राओं की टीम हिस्सा ले सकेगी, जिनका प्रवेश निःशुल्क होगा। प्रतिभागियों को प्रतियोगिता स्थल तक आने-जाने का किराया दिया जाएगा और तहसील जिला व प्रदेश स्तर के विजेताओं को संस्था की ओर से पुरस्कार वितरित किए जाएंगे। प्रदेश में इस तरह का आयोजन पहली बार हो रहा है और इस प्रकार के आयोजन को करवाने की अनुमति शिक्षा विभाग ने दी है। मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल और शिक्षा निदेशक ओपी शर्मा ने साइंस के प्रति रुझान बढ़ाने के लिए समूचे प्रदेश में साइंस क्विज करवाने को हरी झंडी दे दी है। इस प्रतियोगिता का शुभारंभ शिक्षक दिवस पर पांच सितंबर को मंडी से होगा और समापन विश्व विज्ञान दिवस पर दस नवंबर को होगा। प्रतियोगिता का समापन शिमला में करने की योजना है, प्रतियोगिता में मेगा फाइनल का लाइव प्रसारण हो इसका प्रयास किया जा रहा है। स्कूलों को इस संबंध में पत्र लिखकर इसमें भाग लेने के निर्देश दिए गए हैं। प्रतियोगिता में बच्चों से विज्ञान व गणित आधारित सवाल पूछे जाएंगे। बच्चों के स्तर के एक या दो सामान्य ज्ञान के प्रश्न भी पूछे जाएंगे। प्रदेश के निजी व सरकारी सभी स्कूलों के बच्चे इस प्रतियोगिता में शामिल हो सकते हैं। प्रतियोगिता के संयोजक दीपक गुलेरिया, सिरडा ग्रुप आफ इंजीनियर्स संस्थान के एमडी निक्का राम सहित डा. जसवंत ने पुष्टि की है कि तहसील से राज्य स्तर का साइंस क्विज करवाया जा रहा है। शिक्षा विभाग ने इस प्रतियोगिता को करवाने की मंजूरी दे दी है।

You might also like