एमएलए की जेब से मोबाइल साफ

चिंतपूर्णी। माता मंदिर परिसर में रोजाना जेबकतरे जेब काटने व चोरी की वारदातें बढ़ती जा रही हैं। तीन दर्जन श्रद्धालुओं ने इस बाबत शिकायतें दर्ज करवाई हैं। कड़ी सुरक्षा के बीच आम ही नहीं खास आदमी भी जेबकतरों व चोरों के शिकार बन रहे हैं। मेला क्षेत्र में सक्रिय जेबकतरों के हौसले इतने बुलंद हो गए हैं कि उन्होंने पंजाब के विधायक का मोबाइल फोन ही साफ कर दिया। मामला मंदिर परिसर के भीतर का बताया गया है। जीरा के विधयक नरेश कटारिया ने मंदिर कार्यालय में अपना सैमसंग का मोबाइल फोन चोरी होने की शिकायत दर्ज करवाई है। वह परिवार सहित मां के दर्शन करने आए थे। इतना ही नहीं, सातवें नवरात्र को एक दर्जन से ज्यादा श्रद्धालुओं ने अपने पर्स तथा मोबाइल चोरी होने की शिकायतें कार्यालय में दर्ज करवाई हैं। हैरान करने वाली बात यह है कि मेले के दौरान तीन दर्जन से ज्यादा पीडि़त श्रद्धालुओं की शिकायतें मंदिर कार्यालय में दर्ज हो चुकी हैं। अभी तक पुलिस प्रशासन सक्रिय जेबकतरों पर नकेल नहीं कस पाया है। पंजाब के फिरोजपुर जिला के अंतर्गत पड़ने वाले जीरा विधानसभा क्षेत्र के विधायक नरेश कटारिया सातवें नवरात्र को चिंतपूर्णी माता के दर्शकों को परिवार सहित आए हुए थे। श्री कटारिया ने बताया कि मंदिर परिसर में दर्शनों के दौरान किसी ने उनका मोबाइल फोन उड़ा लिया। विधायक ने मंदिर प्रशासन के प्रबंधों को जमकर फटकार लगाई। पंजाब के फरीदकोट के श्रद्धालु का पर्स चोरी हुआ, श्रद्धालु सुखनदीप ने 650 रुपए नकदी चोरी होने की शिकायत दर्ज करवाई है।

रोहित वर्मा निवासी लुधियाना का पर्स चोरी हो गया, उसमें 500 रुपए थे। बीरबल शर्मा निवासी कपूरथला का मोबाइल चोरी हुआ है। संदीप सिंह निवासी जालंधर का मोबाइल फोन गुम है। लखविंद्र सिंह निवासी जालंधर का मोबाइल गायब हो गया। अजय कुमार निवासी लुधियाना का मोबाइल फोन, चंद्रशेखर निवासी लुधियाना का पर्स चोरी हुआ, उसमें 1200 रुपए नकदी के अलावा एटीएम कार्ड व ड्राइविंग लाइसेंस था। अमृतसर के श्रद्धालु विकास माही ने मोबाइल चोरी की शिकायत दर्ज करवाई है। होशियारपुर के अवतार सिंह ने पर्स तथा मोबाइल फोन चोरी होने की शिकायत दर्ज करवाई है। इसी तरह बलविंद्र सिंह निवासी जालंधर ने दर्शनों के दौरान 1200 रुपए की नकदी चोरी होने की शिकायत दर्ज करवाई है। मेले के दौरान रोजाना कई श्रद्धालु जेबकतरों के शिकार हो रहे हैं। इतनी सिक्योरिटी के बावजूद पुलिस जेबकतरों की धरपकड़ नहीं कर पाई है। इनके शिकार अधिकांश श्रद्धालु माता के दरबार से कड़वा अनुभव लेकर घरों को लौट रहे हैं।

You might also like