किसका ताज, फैसला आज

अनिल ठाकुर, शिमला

केंद्रीय छात्र संघ चुनावों का इंतजार खत्म हो गया है। चुनावी घडि़यां नजदीक आ गई हैं। प्रदेश विश्वविद्यालय सहित कालेजों में प्रचार अभियान थम गया है। प्रचार के अंतिम दिन सभी संगठनों के कार्यकर्ताओं ने खूब प्रचार किया। सुबह से ही तेज बारिश होने के बावजूद कार्यकर्ताओं का मिशन कैंपेन में कोई कमी नजर नहीं आई। संगठनों के कार्यकर्ता जीत के लिए जी-तोड़ मेहनत करते नजर आए। पूरे पैनल के साथ कार्यकर्ता छात्रों से अपने पक्ष में वोट मांगते नजर आए। राजधानी में प्रदेश विश्वविद्यालय सहित आरकेएमवी, कोटशेरा कालेज, संजौली कालेज, सांध्यकालीन महाविद्यालय व संस्कृत कालेजों में होने जा रहे हैं। 24 सीटों के लिए होने जा रहे चुनावों में 72 प्रत्याशी अपने भाग्य को अजमा रहे हैं। शुक्रवार को 11 हजार के करीब मतदाता इनके भाग्य का फैसला करेंगे। चुनावों में जीत किस की होती है, इसका फैसला छात्र करेंगे।

गुरुवार को प्रचार अभियान खूब जोरों पर रहा। चुनावों में जीत हासिल करने के लिए संगठन के कार्यकर्ता कुछ भी करने को तैयार हैं। चुनावों के लिए तीनों संगठनों ने अपने-अपने मुद्दे पहले ही तय कर लिए हैं। इसको लेकर ही वे प्रचार में जुटे हुए हैं। छात्रों को अपने पक्ष में करने के लिए एसएमएस व ई-मेल से भी प्रचार किया जा रहा है। वहीं छात्रों की पसंदीदा वेबसाइट ऑरकुट के माध्यम से भी प्रचार किया जा रहा है। विवि में भले ही एबीवीपी व एसएफआई के बीच मुकाबला हो, मगर इस बार एबीवीपी व एसएफआई के बीच कड़ा मुकाबला होने की उम्मीद जताई जा रही है। वहीं कालेजों में इस मर्तबा मुकाबला तिकोना होगा। कोटशेरा कालेज की बात करें, तो यहां एबीवीपी अधिक बार अपनी एससीए बनाने में कामयाब रही है, मगर इस बार एसएफआई यहां पर कड़ी टक्कर दे रही है। वहीं संजौली कालेज में मुकाबला तिकोना है। यहां पर किसी एक संगठन  का एससीए पर कब्जा होने के बजाय संयुक्त रूप से एससीए बन सकती है। आरकेएमवी कालेज में एसएफआई का पलड़ा इस बार भी भारी नजर आ रहा है। वहीं संस्कृत कालेज में एबीवीपी की जीत सुनिश्चित ही समझी जा रही है। सांध्यकालीन महाविद्यालय में भी एसएफआई पूरी तरह जीत का दावा कर रही है। अब देखना यह है कि छात्र किस के पक्ष में वोट कर उन्हें जीत दिलाते हैं। एबीवीपी के प्रांत मंत्री नवीन शर्मा ने कहा कि इस बार राजधानी सहित प्रदेश के सभी कालेजों में जीत उन्हीं की होगी। एसएफआई के राज्य अध्यक्ष विक्रम सिंह ने कहा कि एसएफआई पिछले वर्ष की तरह इस बार भी राजधानी के कालेजों में जीत का परचम लहराएगी। एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष यदुपति ठाकुर ने कहा कि इस बार भी जीत एनएसयूआई की ही होगी।

You might also like