कृषि सहकारी सभा में हंगामा

कार्यालय संवाददाता, गगरेट

मुबारिकपुर की एक निकटवर्ती कृषि सहकारी सभा में ऋण माफी को लेकर बखेड़ा खड़ा हो गया है। विभाग के सरकारी रिकार्ड में कई खाताधारकों के ऋण माफ हो चुके हैं, परंतु सभा के सचिव द्वारा खाताधारकों के पास बुक में ऋण चालू रखे जाने पर खाता धारक भड़क उठे हैं। यह खुलासा सचिव द्वारा बार-बार ऐसे कई खाताधारकों को ऋण जमा करवाने के लिखित नोटिस के उपरांत खाताधारकों द्वारा ली गई विभागीय आरटीआई में हुआ है। सच सामने आने पर खाताधारनकों ने सभा के सचिव पर धावा बोल दिया है। इससे उक्त सहकारी सभा में हड़कंप मच गया है। बताया जा रहा है कि उक्त कथित कृषि सहकारी सभा में सैकड़ों खाताधारकों के ऋण माफ हुए थे, परंतु सभा के सचिव ने दर्जनों खाताधारकों को अंधेरे में रखा। उसने खाताधारकों को जल्द ऋण जमा करवाने की बात कही। जब खाताधारकों ने ऋण जमा नहीं करवाया, तो सभा का सचिव बार-बार नोटिस भेजने लगा। ऐसे में खाताधारकों ने विभाग से आरटीआई ली, तो उसमें कई खातारधाकों के लोन माफ पाए गए। अब लोग भड़क उठे हैं और कई खाताधारक न्यायालय की शरण में जाने के लिए वकीलों से संपर्क साध रहे हैं। उधर इस बाबत जिला सहकारी सभा अधिकारी देस राज का कहना है कि ऋण माफी पर कुछ खाताधारकों के लोन माफ हुए हैं। ऐसा कोई भी मामला ध्यान में नहीं आया है, अगर शिकायत आएगी, तो जांच होगी।

You might also like