कैसे फहरा जाते हैं पाकिस्तानी झंडे

कश्मीर घाटी में हर जन प्रदर्शन में चाहे वह प्रशासन के खिलाफ हो या सुरक्षा बलों की तथाकथित ज्यादतियों के खिलाफ प्रदर्शनकारी न केवल भारत विरोधी नारे बुलंद करने की आदत डाल चुके हैं, बल्कि मर्यादित आचरण लांघ कर पाकिस्तानी झंडे फहराने का दुस्साहस तक दिखा रहे हैं। कश्मीर घाटी के एक वर्ग विशेष से संबंध रखने वाले इन प्रदर्शनकारियों के ये कृत्य स्पष्ट रूप से देशद्रोह की श्रेणी में आते हैं, जिसे मूकदर्शक बन कर सहन करते रहने का कोई कारण नहीं ठहरता है,  जिन पर कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाना आवश्यक है। गत दिनों जब केंद्र सरकार ने कश्मीर में हिंसक प्रदर्शन करने की आदत बना चुके प्रदर्शनकारियों के खिलाफ समूह के रूप में कानूनी कार्रवाई करने की बजाय हर शख्स के खिलाफ अलग-अलग स्वतंत्र रूप से कार्रवाई करने के लिए राज्य सरकार को कहा, तब तक यह राज भी खुल चुका था कि कश्मीर घाटी में भारत विरोधी प्रदर्शन के लिए पाकिस्तान की ओर से पैसा पहुंच रहा है, ताकि कश्मीर को लेकर भारत की छवि अंतरराष्ट्रीय जगत में खराब हो। उम्मीद है कि जम्मू-कश्मीर सरकार घाटी के पाकिस्तान समर्थक तत्त्वों के खिलाफ कड़ी कानूनी और दंडात्मक कार्रवाई के मार्ग में बाधा नहीं बनेगी और न उक्त उद्दंड तत्त्वोंे से निपटने की सुरक्षा बलों की कार्रवाई को किसी भी तरह से बाधित या हतोत्साहित करने का प्रयास करेगी।

तिलक राज गुप्ता, रादौर हरियाणा

You might also like