क्लर्क के सर्टिफिकेट पर सवाल

स्टाफ रिपोर्टर, शिमला

हिमाचल प्रदेश नर्सिंग रजिस्ट्रेशन काउंसिल मंें कम्प्यूटर क्लर्क पर तैनात महिला कर्मचारी के खिलाफ छोटा शिमला थाना में आईपीसी की धारा 420, 467, 468 के तहत मामला दर्ज किया गया है। महिला कर्मचारी के खिलाफ विभाग की ही एक महिला कर्मचारी ने फर्जी प्रमाण पत्र देकर नौकरी हथियाने का आरोप लगाया है। शिकायतकर्ता श्रीमती चौहान का आरोप है कि वर्ष 2007 में एचपीएनआरसी में कम्प्यूटर
क्लर्क के लिए साक्षात्कार रखे गए थे, जिसमें शैक्षणिक योग्यता स्नातक रखी गई थी। उक्त महिला कर्मचारी, जिसने वर्ष 2007 में इस पद के लिए आवेदन किया था और साक्षात्कार के दौरान स्नातक का शैक्षणिक प्रमाणपत्र प्रस्तुत किए। इसी आधार पर उक्त महिला का चयन किया गया। दो साल बाद उक्त महिला ने वर्ष 2009 में बीए द्वितीय वर्ष के पेपर दिए। इसी आधार पर महिला द्वारा साक्षात्कार के दौरान नौकरी हथियाने के लिए दिए गए बीए के शैक्षणिक प्रमाणपत्र पर फर्जी होने के शक का अंदेशा जताते हुए विभाग की ही महिला कर्मचारी ने छोटा शिमला थाना में मामला दर्ज करवाया है। पुलिस ने भी शिकायकर्ता के आधे-अधूरे नाम पर ही कर्मचारी के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है, जबकि पुलिस वास्तव में शिकायतकर्ता का पूरा नाम तक नहीं जानती। उधर, छोटा शिमला थाना प्रभारी श्रवण कुमार का कहना है कि श्रीमती चौहान की शिकायत पर एचपीएनआरसी की महिला कर्मचारी के खिलाफ फर्जी सर्टिफिकेट प्रस्तुत कर नौकरी हथियाने का मामला दर्ज किया गया है। पुलिस महिला कर्मचारी के शैक्षणिक दस्तावेजों को जल्द कब्जे में लेकर वास्तविकता खंगालेगी कि महिला कर्मचारी पर लगाए जा रहे आरोप सही हैं या निराधार। जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

You might also like