चार दुकानें राख, लोअर बाजार में शार्ट सर्किट ने फूंक डाले लाखों

 शिमला। लोअर बाजार में सोमवार रात को भीषण अग्निकांड में चार दुकानें राख हो गईं। आग बुझाने के प्रयास में दो दुकानों के भीतर पानी घुसने से भारी नुकसान हुआ है। अग्निकांड में 35 लाख रुपए नुकसान आंका गया है। आग के कारण चिंकी गारमेंट व मोबाइल शॉप, सोना क्लॉथ हाउस, शिमला सॉफ्टी कार्नर व एक जूतों की दुकान पूरी तरह जल कर खाक हो गई है, जबकि दो दुकानों में पानी घुस जाने से भी नुकसान हुआ है। यह घटना सोमवार रात करीब 1.40 बजे हुई। दुकानों के ऊपर बिजली की तार में शार्ट सर्किट होने से उठी चिंगारी से अचानक आग लग गई। देखते ही देखते आग की लपटें उठने लगीं। रात्रि गश्त कर रहे पुलिस कर्मियों व स्थानीय लोगों ने इस की सूचना पुलिस को दी।

आग पर काबू पाने के लिए दमकल विभाग की गाडि़यां मौके पर पहुंचीं। लपटें इतनी तेज थीं कि इसे बुझाने में दमकल विभाग और पुलिस को कड़ी मशक्कत का सामना करना पड़ा। करीब एक घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया, मगर इस बीच चार दुकानें पूरी तरह जलकर राख हो चुकी थीं। पुलिस ने इस संबध में मामला दर्ज कर लिया है। उधर, सदर थाना प्रभारी शकुंतला शर्मा ने बताया कि सोमवार रात को बिजली की तार मंे शार्ट सर्किट होने की बजह से दुकानों में आग लगी है। उन्होंने बताया कि इस संबंध में मामला दर्ज कर लिया है। स्थानीय विधायक सुरेश भारद्वाज ने घटना स्थल पर जाकर नुकसान का जायजा लिया। उधर, व्यापार मंडल शिमला ने अग्निकांड पर दुख जताया है। व्यापार मंडल अध्यक्ष रमेश सूद ने प्रशासन से मांग की है कि लोअर बाजार में बिजली की तारें अव्यवस्थित तरीके से गुजर रही हैं। उन्होंने कहा कि इस के लिए स्थायी नीति बनाई जाए, ताकि भविष्य में इस तरह की घटना पेश न आए।

जिला कांग्रेस कमेटी (शहरी) ने लोअर बाजार में अग्निकांड प्रभावितों को उचित मुआवजा देने की मांग उठाई है। कांग्रेस कमेटी की शहरी इकाई के अध्यक्ष प्रदीप सिंह भुज्जा ने कहा कि आग की घटना में बिजली की तारें खतरा बन गई हैं। उन्होंने मांग की कि बाजार में घरों के ऊपर से डाली गईं तारों की उचित व्यवस्था की जाए, ताकि भविष्य में इस तरह की घटना न हो।

नाथपा झाकड़ी में पांच दिन से अंधेरा

You might also like