छात्राओं के हाथ रहेगा जीत का दारोमदार

महेंद्र बदरेल, रामपुर बुशहर

गोविंद बल्लभ पंत महाविद्यालय में इस बार भी चुनावी मैदान में उतरे योद्धाओं के जीत की चाबी छात्राओं के पास होगी। छात्राओं का पलड़ा जिस ओर भारी होगा, जीत के दरवाजे उस ओर खुलने तय हैं। इस मर्तबा रामपुर कालेज में कुल 2605 छात्र अपने मत का प्रयोग करेंगे, जिसमें 1457 छात्राएं व 1148 छात्र शामिल हैं। मतदान के आखिरी दिन सभी संगठनों ने अपनी जीत को पुख्ता करने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा दिया। हर संगठन के छात्र नेता कैंपस छोड़ प्रचार में जुटे रहे। भले ही ये प्रचार सार्वजनिक नहीं था, लेकिन अंदरुनी तौर पर हर छात्र उम्मीदवार अपनी स्थिति को मजबूत करता दिखा। एनएसयूआई अपनी जीत के सिलसिले को दोहराने के लिए प्रयास कर रही है। वहीं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद एक बार फिर रामपुर कालेज में भगवा लहराने को आतुर है।

वहीं गत वर्ष मात्र एक सीट पर जीत दर्ज कर चुके एसएफआई के नेता अपना आंकड़ा बढ़ाना चाहते हैं। सभी की निगाहें छात्राओं की रहनुमाई पर टीकी हैं। लड़कियों के वर्चस्व को देखते हुए सभी संगठनों ने छात्रा उम्मीदवारों को अपने पैनल में खासी तरजीह दी है, लेकिन अध्यक्ष पद पर अभी लड़ाई छात्र नेताओं के बीच ही है। राजधानी में तीस जवानों के हाथों में एससीए के चुनावों की घेराबंदी रहेगी। ये जवान जहां मतदान को शांतिपूर्ण तरीके से करवाने के लिए कैंपस में तैयार रहेंगे, वहीं नौ पोलिंग बूथों पर भी उनकी नजरें रहेंगी। कालेज के प्राचार्य एमएस नेगी कहा कि शुक्रवार सुबह 9.30 से दो बजे तक मतदान किया जाएगा।

You might also like