दस हजार कलाइयां रहेंगी सूनी

शिमला। इस बार भी रक्षा बंधन पर हिमाचल के कुछ भाइयों की कलाई सूनी रहेगी। निजी क्षेत्र में कार्यरत बहनों को छुट्टी का प्रावधान नहीं हो पाया है। नतीजतन हर वर्ष राखी के दिन दस हजार भाइयों की कलाई इसलिए सूनी रह जाती है, क्योंकि सरकार द्वारा छुट्टी का तोहफा निजी क्षेत्र में कार्यरत महिलाओं को नहीं दिया जाता। इसकी पुष्टि डिप्टी लेबर कमिश्नर आरएस सिपहिया ने की है। कमिश्नर के मुताबिक अभी निजी क्षेत्र में काम करने वाली महिलाओं को छुट्टी का प्रावधान नहीं किया गया है।  उधर, श्रम विभाग में फोन पर निजी क्षेत्र में कार्यरत छुट्टी के बारे में पूछने वाली महिलाओं को मायूसी ही हाथ लग रही है। पहले यह संभावना जताई जा रही थी कि निजी क्षेत्र में कार्यरत महिलाओं को छुट्टी मिलेगी क्योंकि सरकारी क्षेत्र में काम कर रही महिलाओं व युवतियों को छुट्टी मिलती है। गौरतलब है कि हिमाचल में करीब 30 हजार महिलाएं, युवतियां निजी क्षेत्र में कार्य कर रही हैं, जिसमें छोटी-बड़ी कंपनियों, दुकानों, उद्योगों में ये महिलाएं कार्यरत हैं। अब श्रम विभाग ने भी इन महिलाओं को छुट्टी देने को लेकर हाथ खड़े कर दिए हैं। श्रम विभाग के अनुसार निजी क्षेत्र में महिलाओं को छुट्टी देने की कोई घोषणा नहीं हुई है। यदि निजी क्षेत्र स्वयं चाहे तो महिलाओं को छुट्टी दे सकता है। सूत्रा महिला सशक्तिकरण संस्था भी मानती है कि सभी क्षेत्रों में कार्यरत कर्मियों को इस दिन छुट्टी का प्रावधान होना चाहिए। संस्थाओं का रिकार्ड भी इस बात का गवाह है कि निजी क्षेत्र में राखी के दिन मायूसी हाथ लगी है। सूत्रा नारी सशक्तिकरण संस्था की राज्य समन्वयक निर्मल चंदेल का कहना है कि  हर क्षेत्र में कार्यरत बहनों को राखी के दिन छुट्टी का तोहफा मिलना चाहिए।

You might also like