दोहरी नीति छोड़ विकास की बात करें

निजी संवाददाता, करनाल

कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव राहुल गांधी ने कहा कि देश में दोहरी नीति न छोड़कर सभी लोग विकास की बात करें। मेरा सपना है कि भारत एक खुशहाल भारत हो। श्री गांधी शुक्रवार को एनडीआरआई के सभागार में छात्र मिलन समारोह के अवसर पर छात्रों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद हमारे देश में दोहरी नीति को बढ़ावा मिला है। देश का जरूरतमंद, निर्धन, दलित, ग्रामीण आज भी उसी जगह खड़ा है, जबकि समाज का वह दूसरा हिस्सा उनकों आगे आने से रोकता है। उन्होंने कहा मेरा सपना है कि मै समाज के उस हिस्से को आगे लाना चाहता हूं, जो वर्षों से उत्पीडि़त हो रहा है। हम चाहते हैं कि समाज का आम आदमी कांग्रेस पार्टी से जुड़कर आगे आए तथा अपना सपना साकार करें, मैं उनके सपने को साकार करने में उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम करूंगा। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी ने आम आदमी को पार्टी में हिस्सेदारी के लिए नियुक्तियों में पारदर्शिता लाने का काम किया है। अब पार्टी में किसी भी पद के लिए सीधी नियुक्ति नहीं होती है, बल्कि चुनाव के माध्यम से पदाधिकारी बनाए जाते है। उन्होंने तमिलनाडु में युवा कांग्रेस के पदाधिकारियों की चुनाव के माध्यम से हुई नियुक्ति यों का जिक्र भी किया। श्री गांधी के साथ छात्रों के वार्तालाप में छात्रों ने प्रश्न किया कि हमारे देश में शिक्षा में आरक्षण प्रणाली के कारण चिकित्सा, आईआईटी व अन्य क्षेत्रों में प्रवेश पाने से वंचित रह जाते हैं। उन्हें दाखिला लेने के लिए लाखों रुपए शिक्षण संस्थानों में अनुदान के रूप में देने पड़ते हैं। उन्होंने उत्तर में कहा कि आप लोगों को यह प्रश्न इस तरीके से पूछना चाहिए कि देश में 100 मेडिकल कालेज व जरूरत के अनुसार आईआईटी कब बनेंगी तथा देश के इन उच्च शिक्षण संस्थानों में सुधार कब होगा। उन्होंने कहा जब देश में जरूरत के अनुसार सब कुछ हो जाएगा, तो आरक्षण की जरूरत नहीं पड़ेगी और न ही किसी दाखिले के लिए लाखों रुपए अनुदान के रूप में शिक्षण संस्थान को देने पड़ेंगे। एक अन्य प्रश्न में छात्रों ने श्री गांधी से मांग करते हुए कहा कि रेलवे व वन प्रशासनिक सेवा की तर्ज पर कृषि प्रशासनिक सेवा की भर्तियां भी होनी चाहिए।

You might also like