दो बार सीएम, एक बार डीजीपी पर निशाना

स्टाफ रिपोर्टर, शिमला

राजधानी को उड़ाने की एवज में फिरौती मांगने वाला आरोपी आजकल पुलिस रिमांड पर है। उसने दो बार मुख्यमंत्री तथा एक बार पुलिस महानिदेशक तक को धमकी दे डाली थी। पुलिस ने दो माह की कड़ी मशक्कत के बाद उसकी कोशिश नाकाम कर दी। शिमला को उड़ाने की धमकी देने वाले ने दो बार मुख्यमंत्री को धमकी भरे पत्र भेजे थे। मुख्यमंत्री को भेजे गए धमकी भरे पत्र का जब कोई जवाब नहीं आया, तो अल कायदा संगठन का करीम खान बनकर आरेपी वरुण उर्फ पप्पू ने तीसरी बार पुलिस महानिदेशक को धमकी भरा पत्र लिखा। इसमें लिखा कि प्रदेश सरकार उनकी मांगें पूरी नहीं कर रही है और न ही पत्र का कोई जवाब दिया जा रहा है। सरकार से इस मामले में बात करें, वरना शिमला में तबाही मचा दी जाएगी। इस तरह धमकी भरा लिखा गया पत्र आरोपी ने टुटू चौक पर ट्रैफिक गुमटी में चिपका रखा था। पिछले दो माह से वरुण इस तरह की शिमला उड़ाने की धमकियां दे रहा था। दो माह से पुलिस आरोपी के पीछे लगी थी, परंतु आरोपी युवक पुलिस से बच निकलता था, लेकिन उसने एक गलती कर दी कि चोरी के मोबाइल से कॉल कर लोगों को धमकियां देनी शुरू कर दीं कि पांच लाख दो वरना परिवार को खत्म कर दिया जाएगा। इस सनकी आरोपी ने मोबाइल से पड़ोसी से ही फोन पर फिरौती की मांग कर डाली। पड़ोसी उसकी आवाज पहचान गए और इसकी शिकायत पुलिस में कर दी। पुलिस ने शिकायत मिलने पर उस नंबर पर कॉल किया, जिससे आरोपी धमकियां दे रहा था। जैसे ही  वरुण ने फोन उठाया पुलिस ने पूछा कौन बोल रहा है। वरुण ने असली नाम न बताकर खुद को करीम खान बता दिया। पुलिस समझ गई कि यह फिरौती मांगने वाला शख्स ही शिमला को उड़ाने की धमकी देने वाला अल कायदा संगठन का आदमी है। उधर, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजेंद्र मोहन शर्मा ने बताया कि आरोपी वरुण की पुलिस पिछले दो माह से तलाश कर रही थी।

You might also like