द्रंग में 30 मीटर धंसा एनएच

उरला। उपमंडल पद्धर के विभिन्न हिस्सों में भारी वर्षा के कारण ल्हासे गिरने से लोगों के रिहायशी मकानों और उपजाऊ खेतों को खतरा बना हुआ है। वहीं राष्ट्रीय उच्च मार्ग-20 पर  दं्रग के समीप ल्हासे गिरने से मंडी-पठानकोट मार्ग पर जाम लगता रहा। पीडब्ल्यूडी के सहायक अभियंता जोगेश वैद्य ने बताया कि यातायात बहाल करने के लिए कर्मियों को तैनात किया है व द्रंग थाने के समीप राष्ट्रीय उच्च मार्ग की लगभग 30 मीटर सड़क धंस गई है। उधर, उपमंडल पद्धर की चौहारघाटी में भारी बारिश के चलते भू-स्खलन से तीन दर्जन मकानों को खतरा पैदा हो गया है। बरोट पंचायत के गांव काव, लपास, कठयाण और रोलंग के लोग सुरक्षित जगह पर चले गए हैं। ग्रामीणों में देश राज, गोकुल, फतेह सिंह, राम दास, खेम सिंह, संत राम, ओम चंद, राज कुमार, भाग सिंह के मकानों को खतरा पैदा हो गया है। उधर, बरोट बाजार में विनोद कुमार की सब्जी की दुकान ल्हासा गिरने से पूरी तरह बर्बाद हो गई है। इससे लगभग एक लाख का नुकसान हुआ है। लपास पंचायत के कटयाण गांव के तारा चंद, हरि चंद, पृथी चंद की लगभग तीस बीघा जमीन तबाह हो गई है। उधर, नायब तहसीलदार पद्धर शरद सिंह का कहना है कि  हलका पटवारियों को प्रभावित क्षेत्रों में भेज दिया है तथा रिपोर्ट तैयार करने को कहा है। उधर, दूंधा इलाका की ग्राम पंचायत बड़ीधार के सपैरी गांव निवासी चतर सिंह पुत्र दौलत राम का नवनिर्मित मकान का एक कमरा और बरामदा धंसने से पूरे मकान को खतरा बना हुआ है। प्रभावित के मुताबिक घर के समीप डेढ़ फुट जमीन धंसने और मकान के पीछे ल्हासा आने से मकान खतरे की चपेट में है।

You might also like