निगम की टपकती बसों में सफर कर रही राजधानी

टेकचंद वर्मा, शिमला

राजधानी शिमला में लोगों को निगम की छतों से पानी टपकाती बसों में सफर करना पड़ रहा है। राजधानी के लोगों ने आरोप लगाया कि शिमला में चल रहीं पथ परिवहन निगम की अधिकतर बसों की छतों से पानी अंदर टपकता है। शिमला में मानसून के चलते लोगों को अब बस के अंदर भी भीगना पड़ता है। संजौली के अशोक महाजन ने बताया कि शिमला के ग्रामीण क्षेत्रों और लोकल रूटों में निगम की बसों के चलने की कोई निश्चित समयसारिणी नहीं है। यदि बस आती भी है, तो बसों में टपकती छतों से यात्रियों को दो-चार होना पड़ता है। उन्होंने बताया कि निगम की अधिकतर बसों की हालत दयनीय है और लोगों को बसों में भी पानी से खुद को बचाने के लिए छाता खोलना पड़ता। अशोक महाजन ने बताया कि रेयोघाटी से शिमला आ रही बस (एचपी 07-5468) में पानी अंदर टपक रहा था। वहीं दूसरी और ग्रामीण क्षेत्र पआबो के भूपेंद्र ठाकुर, अशोक शर्मा और रविंद्र कुमार ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों को चलने वाली बसों की छतों से पानी अंदर टपकता है, जिससे ग्रामीणों को सफर करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंेने बताया कि गुरुवार को आने वाली निगम की बस की छत्त से काफी पानी अंदर आ रहा था, जिससे उनके कपड़े गीले हो गए।

You might also like