पद्धर में एनएसयूआई का दुर्ग ध्वस्त

नवीन शर्मा, उरला

पद्धर कालेज में विद्यार्थी परिषद ने एनएसयूआई का पिछले चार वर्षों का पक्का तंबू उखाड़ फेंका। इतिहास पर नजर दौडाएं तो इससे पहले एनएसयूआई का पद्धर कालेज में दबदबा रहा, लेकिन इस बार कालेज में भगवा लहर के आगे सभी बौने साबित हुए। यद्यपि पैनल में एक पद झटकने में एनएसयूआई कामयाब रही, किंतु अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की जीत ने द्रंग की राजनीति में सियासी चालों की दिशा ही बदल दी है। पिछले इतिहास पर नजर दौड़ाएं तो पद्धर कालेज में सन् 2006 से 2009 तक एनएसयूआईर् की ही सरदारी रही। सन् 2007 में यह मुकाबला दो-दो पर बराबर हो गया था, लेकिन फिर 2008 के चुनावों में एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं ने पूरी ताकत झोंक कर तीसरी बार एससीए सीटों पर कब्जा कर लिया था। उस समय भी एबीवीपी को  केवल उपाध्यक्ष पद ही प्राप्त हुआ था। उसके बाद 2009 में एनएसयूआई ने भगवा लहर को फिर उस हाशिए पर ला कर चौथी बार जीत दर्ज कर अपना वर्चस्व कायम रखा, लेकिन ध्यान देने वाली बात यह है कि इस बार के चुनावों में पद्धर कालेज में भगवा लहर के आगे एनएसयूआई कतई भी नहीं टिक पाई। पद्धर में भगवा लहर की जीत के चर्चे आज सभी की जुबां पर हैं, वहीं एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने जीत की खुशी मनाने के लिए शनिवार को पद्धर में मंडयाली धाम का आयोजन भी किया। जीत का जश्न मनाने के लिए डीजे की धुन पर छात्र एवं छात्राएं दिन भर झूमती रहीं। वहीं द्रंग मंडलाध्यक्ष लाल चंद ठाकुर, द्रंग भाजपा नेता जवाहर ठाकुर, पूर्व महामंत्री मोहन सिंह, यशोधानंद बजीर, संत राम शर्मा, प्रकाश महंत,  द्रंग युवा कार्यकारिणी सदस्य सोमनाथ, दीप चंद, नरेंद्र कुमार, दिनेश कुमार आदि सभी कार्यकर्ताओं ने पद्धर में एबीवीपी की जीत पर उन्हें बधाई दी है।

You might also like