पहले परिचय, फिर मांगे वोट

शिमला। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने विश्वविद्यालय में अपने पैनल का परिचय छात्रों से करवाया। पूरे विवि में एबीवीपी के पैनल ने छात्रों से समर्थन देने के लिए वोट मांगे। इसके साथ ही विद्यार्थी परिषद ने विभागों के डीआर घोषित किए। प्रधान पद के उम्मीदवार बलदेव देष्टा ने बताया कि हमारा मुख्य मुद्दा एससीए की नाकामियों को आम छात्रों तक पहुंचाना है। उन्होंेने कहा कि आज भी एसएफआई समर्थित एससीए उन्हीं मांगों को लेकर चुनाव में उतरी है, जो पिछले कई वर्षों से चली आ रही हैं, जो साफ तौर पर इसकी विफलता को साफ दर्शाती हैं। उन्होंने कहा कि हमारी मांगें विवि में प्लेसमेंट सैल को सुदृढ़ करना, गर्ल्ज होस्टलों का शीघ्र निर्माण, ब्वायज होस्टल में मैस की दशा सुधारना, लाइब्रेरी में आधुनिक पुस्तकों की व्यवस्था व डे स्कालरस के लिए अतिरिक्त बसों की व्यवस्था करवाना आदि है। उन्होंेने कहा कि विद्यार्थी परिषद छात्र वर्ग से यह वादा करती है कि इस बार अगर विद्यार्थी परिषद का पैनल चुनकर आता है, तो शीघ्र अतिशीघ्र इन सभी समस्याओं का समाधान किया जाएगा। इसलिए एबीवीपी छात्र वर्ग से अपील करती है कि इस बार भारी मतों के साथ एबीवीपी को विजय बनाएं और लोकतांत्रिक अधिकार को समझते हुए अपने वोट का सही प्रयोग करें। इसके साथ ही विद्यार्थी परिषद के डीआर ने भी अपने-अपने विभागों में छात्रों से विद्यार्थी परिषद के समर्थन में वोट मांगे। विभिन्न विभागों के डीआर के उम्मीदवारों में लॉ विभाग के रविंद्र, बबिता शर्मा, स्वाति शर्मा, अजय कुमार, दीपक मांटा, रजनीश शर्मा, साइंस विभाग से राकेश, आदित्य, केमिस्ट विभाग से प्रवीण , महेश्वर, मैथ विभाग से सविता कला एवं संस्कृत विभाग से निताराम, लीलाधर,  किरण गौतम, मालविका, मंजूसा, परमेश, किरण संधेल, जीना गुप्ता, दानिशा नेगी, विकास शर्मा, नितिन व विप्लव सूद आदि हैं।

 

You might also like