पानी के सैंपल फेल

नाहन। जिला मुख्यालय नाहन की पीने के पानी की करीब 70 प्रतिशत आपूर्ति पूरी करने वाली खैरी उठाऊ पेयजल योजना की शुद्धता पर प्रश्नचिन्ह लग गया है। एक निजी कंपनी की बैक्टीरिया लाजिकल फील्ड टेस्ट किट ने खैरी उठाऊ पेयजल योजना के सैंपल को फेल कर दिया है। यदि इस किट के परिणाम पर गौर किया जाए, तो खैरी पेयजल योजना का पानी पीने के लिए उचित नहीं है, जिससे शहर के लोगों की चिंता बढ़ गई है। जानकारी के मुताबिक फील्ड टेस्ट किट में जब खैरी उठाऊ पेयजल योजना का पानी जांचा गया, तो इसकी रिपोर्ट के मुताबिक पानी टेस्ट किट में काला हो गया। किट में दर्शाए गए निर्देश के अनुसार किट के सैंपल के साथ पेयजल की कुछ बूंदें मिलाई गईं। निर्धारित समय तक किट के कैमिकल के साथ जब योजना का पानी रखा गया, तो यह यलोइश ब्राउन के स्थान पर ब्लैक हो गया। निर्धारित नियम के मुताबिक यदि पानी पीने के लिए सही है, तो इसका कलर यलोईश-ब्राउन होना चाहिए था, परंतु इसके विपरीत पानी का रंग काला हो गया। उधर, इस संबंध में आईपीएच नाहन मंडल के अधिशाषी अभियंता एलआर चौधरी ने बताया कि फील्ड टेस्ट किट में यदि पीने के पानी का सैंपल काला हुआ है, तो पानी में बैक्टीरिया हो सकता है, परंतु नल के पानी के सैंपल में लाइन की लीकेज की वजह से भी बैक्टीरिया जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि फिर भी मामला चिंताजनक है।

You might also like