पानी ने पीडब्ल्यूडी के बहाए 170 करोड़

शिमला। प्रदेश में लगातार हो रही बारिश से राज्य को बड़ा नुकसान उठाना पड़ा है।  अकेले लोक निर्माण विभाग को ही अभी तक इस बरसात से करीब 170 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। बडे़ पैमाने पर सड़कों की क्षति हुई है, जिन्हंंे ठीक करने में समय लगेगा, लेकिन विभाग युद्धस्तर पर इन सड़कों के लिए काम करेगा। यह बात लोक निर्माण मंत्री गुलाब सिंह ठाकुर ने शुक्रवार को सदन में कही। प्रश्नकाल मंे विधायक गंगू राम मुसाफिर के प्राकृतिक आपदाओं से नुकसान के  सवाल पर विधायकों ने भारी बारिश से हो रही तबाही पर अपनी चिंता व्यक्त की। मुसाफिर ने आरोप लगाया कि राहत प्रदान करने मंे भेदभाव होता है। जिलाधीश अपने स्तर पर राहत देते हैं, जिसके वितरण में खामियां रहती हैं। लोक निर्माण मंत्री गुलाब सिंह ने कहा कि प्राकृतिक प्रकोप बढ़ गया है। कभी भयंकर बारिश तो कभी सूखा प्रदेश में पिछले कुछ सालों से यही हाल चल रहा है, लेकिन इसमंे केंद्र सरकार प्रदेश की कोई मदद नहीं करती। पहले भी केंद्र सरकार को 1890 करोड़ रुपए के नुकसान की रिपोर्ट भेजी थी, लेकिन राहत केवल 36 करोड़ रुपए की मिली। ऐसे में अपने संसाधनों से काम करना पड़ रहा है।  उन्होंने बताया कि इस दफा 13वें वित्तायोग ने आपदा राहत मंे 130 करोड़ रुपए का बजट रखा है और यह धनराशि जल्दी ही खर्च की जाएगी। इससे पहले एक विस्तृत रिपोर्ट पूरे नुकसान की तैयार होगी, जिसे केंद्र सरकार को भेजा जाएगा। उन्होंने बताया कि हाल ही में 21 करोड़ रुपए में से 10 करोड़ रुपए लोक निर्माण विभाग को दिए गए हैं और शेष राशि जिलाधीशों व दूसरे विभागांे को दी है। उन्होंने कहा कि 13वें वित्तायोग द्वारा तय की गई 130 करोड़ रुपए की राशि प्रदेश को एडवांस में मिल जाए, इसका प्रयास किया जाएगा और मामला उठाया जाएगा, क्योंकि प्रदेश के पास भी आर्थिक संसाधनांे की कमी है। उन्होंने विधायक कौल सिंह के अनुपूरक सवाल के उत्तर मंे बताया कि 27 करोड़ रुपए की राशि विभिन्न जिलांे के जिलाधीशांे को दी गई है और वे इस पैसे से राहत बांट रहे हैं।

You might also like