…फिर भी नहीं छोड़ा लालबत्ती का शौक

देवेंद्र वर्मा, शिमला

साहबों की गाडि़यों में चालकों की ठाठ लगी हुई है। अपनी ठाठ-बाट व रुतबा दिखाने के लिए चालक बिना साहब के बत्ती जलाकर वाहन दौड़ा रहे हैं। यही नहीं, बाहरी राज्य से आने वाले साहब भी पीछे नहीं हैं। दूसरे राज्यों में जाकर भी वे ठाठ-बाट दिखाने के लिए बत्तियों का दुरुपयोग कर रहे हैं, जबकि नियमों के मुताबिक वे दूसरे राज्य में अपने वाहनों पर बत्ती नहीं लगा सकते। शिमला पुलिस ने सात माह के अंदर 43 चालान उन साहबों की गाडि़यों के किए हैं, जिनमें लगी लाल व नीली बत्ती का दुरुपयोग वाहन चालक कर रहे थे। इस फेहरिस्त मंें  सचिवालय जीएडी के ड्राइवर नियम तोड़ने में सबसे आगे हैं। सात माह के अंदर शिमला पुलिस ने पांच सचिवालय की गाडि़यों के चालान बत्ती का दुरुपयोग करने पर किए हैं। एचपी 07-बी-0007 गाड़ी का चालान तो पुलिस दो मर्तबा कर चुकी है। बावजूद इसके भी इस वाहन का चालक लालबत्ती का दुरुपयोग करने से बाज नहीं आ रहा है।

सचिवालय की जीएडी के एचपी 07-बी 0052, एचआर 07-0065, एचपी 07-0099 वाहनों में ही लालबत्ती का दुरुपयोग करने पर चालान किए गए हैं। इनके अलावा टै्रफिक पुलिस ने बत्ती का दुरुपयोग करने वाले जिन 15 वाहनों के चालान किए हैं, इन वाहनों में एचपी 01ए-2721, एचआर 052जैड-0020, पीबी 08एवाई-5020, पीबी 11-0979, एचपी 07ए-0767, पीबी 65एच-9181, एचआर 63ए, 9580, एचपी 06ए-0378, एचपी 07ए-0763, पीबी 4सीएस, 9292, पीबी 11एएच, 2526, पीबी 65एच-9127, एचपी 01ए-2721 शामिल हैं। इसके अलावा 23 अन्य बत्तियों का दुरुपयोग करने वाले वाहन चालकों के चालान किए गए हैं।

गौरतलब है कि प्रदेश सीआईडी विभाग ने ट्रैफिक पुलिस को आदेश दिए थे कि सरकारी वाहनों में लालबत्ती व नीली बत्ती का दुरुपयोग किया जा रहा है। बत्तियों का दुरुपयोग करने वाले वाहनों के चालान काटे जाएं। इसके अलावा यह भी कहा गया था कि बाहरी राज्य से आ रही गाडि़यों में भी लाल बत्ती व नीली बत्ती का दुरुपयोग किया जा रहा है।

You might also like