बहनों को क्या देंगे दिहाड़ीदार

भवारना। हिमाचल प्रदेश के हजारों दिहाड़ीदारों को जुलाई माह का वेतन नहीं मिला है। लोक निर्माण  व सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य विभाग के हजारों दिहाड़ीदारों पर नई प्रक्रिया के तहत वेतन देने की ऐसी मार पड़ी है कि ये लोग त्योहार के दिनों में ठगा सा महसूस कर रहे हैं। पुरानी प्रक्रिया के तहत जहां दिहाड़ीदारों को हर माह की सात तारीख तक वेतन मिल जाता था, वहीं नई प्रक्रिया ने पहले ही महीने में इनको वेतन के लिए तरसा दिया है। जानकारी के अनुसार लोक निर्माण विभाग व सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य के दिहाड़ीदारों को अब तक जुलाई माह की पगार नहीं दी गई है। ऐसा सरकार द्वारा बनाई गई उस प्रक्रिया के कारण हुआ है, जिसमें दिहाड़ीदारों को पगार ट्रेजरी के माध्यम से उपलब्ध करवाने का प्रावधान किया गया है। पहले ऐसा नहीं होता था। सूत्रों के अनुसार नए प्रारूप के तहत कागजी कार्रवाई पूरा न हो पाना वेतन में देरी का कारण बनी है। दिहाड़ीदारों का कहना है कि पैसे न मिलने से उन्हें भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मात्र तीन हजार रुपए में मुश्किल से घर चलता है, उस पर पैसे न मिलने से तो खाने के लाले पड़ने की नौबत आ गई है। राष्ट्रीय मजदूर कांग्रेस इंटक ने दिहाड़ीदारों का वेतन शीघ्र जारी करने की मांग की है। इंटक के प्रदेश महासचिव सीता राम सैणी ने कहा कि प्रदेश के  दिहाड़ीदारों को रक्षा बंधन से पहले वेतन जारी न किया गया, तो संगठन को संघर्ष का रास्ता अपनाने पर मजबूर होना पड़ेगा। बहरहाल प्रदेश के मजदूरों को उनका जुलाई माह का वेतन नहीं मिला है। इसके कारण उन्हें यह चिंता सता रही है कि वे अपनी बहनों को रक्षा बंधन पर क्या तोहफा देंगे।

You might also like