बागबान 30 को बोलेंगे हल्ला

दिव्य हिमाचल ब्यूरो, कुल्लू

करोड़ों रुपए की घाटी में होने वाली सेब की फसल को बाहरी सब्जी मंडियों में ले जाने के लिए ट्रकों के अभाव की समस्या पनप जाने से कुल्लू फलोत्पादक मंडल ने सरकार के विरोध में सड़कों पर उतरने का निर्णय लिया है। फलोत्पादक मंडल के बैनर तले घाटी के समस्त बागबान इस समस्या से निजात पाने के लिए सरकार के विरुद्ध तथा ट्रक यूनियन कुल्लू के खिलाफ 30 अगस्त को जिला में प्रदर्शन करेंगे। कुल्लू फलोत्पादक मंडल के प्रधान प्रेम शर्मा ने खबर की पुष्टि करते हुए बताया है कि वर्तमान समय में परिवहन व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए मंडल ने ट्रक यूनियन और जिला प्रशासन से कई बार बैठकें कीं, जिसमें मंडल को यूनियन द्वारा यह आश्वासन दिया था कि सेब सीजन में ट्रकों का आभाव नहीं होने दिया जाएगा तथा परिवहन व्यवस्था सुचारू रूप से बनी रहेगी। उन्होंने प्रदेश सरकार को चेताया कि 30 अगस्त से पहले अगर उनकी इस समस्या का समाधान नहीं निकाला गया, तो वे सड़कों पर उतरने को मजबूर हो जाएंगे। 

प्रदेश का बागबानी उद्योग 2000 करोड़ रुपए के लगभग है। उन्होंने बताया कि मनाली से दिल्ली प्रति पेटी 50.55 तथा प्रति कार्टन 57.05 रुपए से भेजा जा रहा है, लेकिन ऐसे में ट्रकों के अभाव के कारण घाटी का सेब सड़कों पर ही सड़ रहा है। उन्होंने बताया कि क्षेत्र के संपर्क मार्गों की स्थिति भी दयनीय बनी हुई है। वहीं कुल्लू फलोत्पादक मंडल के प्रधान प्रेम शर्मा ने कहा कि ट्रकों के अभाव के कारण कुल्लू फलोत्पादक मंडल 30 अगस्त को सरकार के विरुद्ध सड़कों पर उतरेगा।

You might also like