बारिश में बहे सात करोड़ रुपए

सिटी रिपोर्टर, शिमला

इस वर्ष जिला में मानसून लोगों पर कहर बनकर टूट रहा है। चल-अचल संपत्ति को नुकसान के साथ-साथ जानमाल को भारी नुकसान पहुंच रहा है।

चल-अचल संपत्ति को पहुंचे नुकसान की बात की जाए, तो इसका आंकड़ा जिला में सात करोड़ रुपए को पार कर चुका है। एक सप्ताह पहले जिला प्रशासन से जुटाई गई नुकसान की रिपोर्ट में जिला में पांच करोड़ रुपए की क्षति पहुंची थी। सप्ताह के भीतर हुई बरसात ने अढ़ाई करोड़ की चपत जिला प्रशासन के साथ राज्य सरकार को लगा दी है। जिला में बरसात इतनी हो रही है कि लोग दहशत में आ चुके हैं। मिली जानकारी के अनुसार 11 घर पूर्ण रूप से क्षतिग्रस्त हो चुके हैं, जबकि यहां पर 364 मकानों को नुकसान पहुंचा है। जिला के रोहड़ू, चौपाल, ठियोग व शिमला के ग्रामीण क्षेत्र बरसात के कारण ज्यादा प्रभावित हुए हैं। यहां पर पूर्ण रूप से क्षतिग्रस्त हुए मकानों के नुकसान का आंकड़ा 32 लाख 60 हजार रुपए बताया जा रहा है। आंशिक रूप से जिन मकानों को क्षति पहुंची है, वह दो करोड़ 56 लाख एक हजार पांच सौ रुपए आंकी गई है। निजी संपत्ति के साथ-साथ यहां पर सरकारी संपत्ति को भी भारी नुकसान पहुंच चुका है। सड़कें, पुल, सिंचाई योजनाएं, बिजली व संचार सुविधा बारिश की भेंट चढ़ चुके हैं, जिनको लेकर सरकारी संपत्ति को चार करोड़ नौ लाख 42 हजार रुपए नुकसान आंका गया है।

अभी तक जिला में आठ मवेशी बारिश के कारण काल का ग्रास बन चुके हैं। जिला मंें फसलों को पहुंचे नुकसान की रिपोर्ट आनी बाकी है। सात करोड़ में जिला प्रशासन को सरकारी व निजी संपत्ति को पहुंचे नुकसान की रिपोर्ट सरकार को भेज दी गई है।  वहीं एडीएम (प्रोटोकाल) मान सिंह ने कहा कि जिला में हो रही बरसात ने भारी तबाही मचा दी है। सरकारी व निजी संपत्ति को नुकसान का आंकड़ा सात करोड़ को पार कर गया है। सूचना सरकार को भेज दी गई है

You might also like