बीबीएन में खत्म होंगी पंचायतें

, शिमला। हिमाचल प्रदेश के सबसे बड़े औद्योगिक क्षेत्र बद्दी-बरोटीवाला व नालागढ़ में नगर परिषदों व ग्राम पंचायतों को समाप्त करने की तैयारी चल रही है। इन तीनों क्षेत्रों को एक एजेंसी के तहत लाने पर विचार हो रहा है, ताकि क्षेत्रों का विकास सही तरह से हो सके। जानकारी के अनुसार सरकार इन तीनों क्षेत्रों को मिलाकर इंडस्ट्रियल टाउनशिप घोषित करने की सोच रही है और जल्दी ही इस पर निर्णय भी ले लिया जाएगा। वर्तमान में बद्दी, बरोटीवाला व नालागढ़  में जहां नगर परिषदें काम कर रही हैं, वहीं ग्राम पंचायतें भी मौजूद हैं। इसके साथ ही बद्दी-बरोटीवाला-नालागढ़ डिवेलपमेंट अथारिटी को भी वहां विकास कार्यों को सुनिश्चित बनाने के लिए गठित कर रखा है। बताया जाता है कि इन तीनों एजेंसियों में आपसी समन्वय की दिक्कत है, जिसके चलते क्षेत्र का विकास प्रभावित हो रहा है। यहां बता दें कि इसकी शिकायत उद्योगपतियों ने भी सरकार से की है कि यहां कई मामलों में तीनों एजेंसियों में आपसी समन्वय नहीं है, लिहाजा उन्हें परेशानी होती है। इस समय बद्दी और नालागढ़ में नगर परिषदें काम कर रही हैं, जबकि बरोटीवाला ग्राम पंचायत के क्षेत्र में है। इन तीनों पर बीबीएनडीए अथारिटी भी बिठाई गई है, जो उद्योगपतियों को जरूरी सुविधाएं मुहैया करवाने का काम कर रही है। प्रदेश विधानसभा में इस संबंध में दून की विधायक विनोद चंदेल ने मामला उठाया है, जिसके लिखित उत्तर में बताया गया है कि इन तीनों क्षेत्रों में वर्तमान व्यवस्थाओं को समाप्त कर इसे इंडस्ट्रियल टाउनशिप घोषित करने पर सरकार सोच रही है। सरकार इसके लिए विभिन्न विकल्पों पर विचार कर रही है, जिसमें से एक यह सवाल उठा है कि क्या बीबीएनडीए अथारिटी ग्राम पंचायतों व नगर परिषदों को मिली शक्तियों को हासिल कर सकती है। इसमें कानूनी पहलुओं को देखा जा रहा है और सरकार ने विधि विशेषज्ञों से राय भी मांगी है। इसके अलावा सरकार यह भी देख रही है कि वर्तमान स्वरूप में बिना छेड़छाड़ किए इनमें तालमेल व अधिक समन्वय बनाने की दृष्टि से कदम उठाए जाएं।  सभी पहलुओं को सरकार ध्यान में रख रही है और जल्दी ही इस पर कोई निर्णय होगा। अब देखना होगा कि सरकार इन क्षेत्रों के विकास के लिए आखिर क्या कारगर कदम उठाती है।

You might also like