भगवा ब्रिगेड के आगे सब चित

राकेश शर्मा, कुल्लू

जिला कुल्लू में हुए छात्र संघ चुनावों में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की आंधी के आगे एनएसयूआई टिक नहीं पाई और न
ही एसएफआई का लाल सलाम काम आया।

भगवा ब्रिगेड ने दोनों छात्र संघों को ऐसी पटकनी दी कि ढूंढे भी नहीं मिल पाए। बात करें आनी कालेज की, तो चारों पदों पर एबीवीपी के प्रत्याशी विजयी घोषित हुए और आनी कालेज में एबीवीपी के पविंद्र ने एनएसयूआई की बीना व एसएफआई के कपिल को चारों खाने चित कर अध्यक्ष पद हासिल किया। इसी तरह संजीव ने एसएफआई के घनश्याम व एनएसयूआई की एकता को चारों खाने चित कर दिया और उपाध्यक्ष का पद हासिल किया। इसी तरह वेद कुमार ने दोनों प्रतिद्वंद्वियों को हराकर एबीवीपी की झोली में महासचिव का पद डाला। वहीं शबू ने एबीवीपी के खाते में ही सहसचिव की जीत सुनिश्चित करवाई। इसी तरह हरिपुर कालेज में भी एबीवीपी के भगवा ब्रिगेड के आगे किसी दूसरे छात्र संघ की एक नहीं चली और देवेंद्र ने अध्यक्ष, ब्रह्म नंद ने उपाध्यक्ष, मोहित ने महासचिव तथा प्रियंका ने सहसचिव का पद जीता। बंजार कालेज में भी एनएसयूआई व लाल सलाम की परवाह न करते हुए कालेज के छात्रों ने एबीवीपी में ही विश्वास जताया और चारों पद विद्यार्थी परिषद की झोली में डाल दिए। बंजार से गंगा राम ने एनएसयूआई के सुधीर व एसएफआई की रेखा को पटकनी दी। वहीं जगदेव एनएसयूआई के उणे राम व एसएफआई के दुर्गेश को चारों खाने चित कर उपाध्यक्ष बनें। इसी तरह जीवन ने एनएसयूआई के उमेश व एसएफआई के रूप सिंह की एक नहीं चलने दी और महासचिव का पद एबीवीपी की झोली में डाल दिया। एबीवीपी की ही सरीना ने अपने प्रतिद्वंदियों खीमी लाल व मीरा को पटकनी देते हुए सहसचिव का खिताब हासिल किया। जिला कुल्लू में हुए छात्र संघ चुनावों में भारतीय जनता पार्टी की साख दाव पर लगी थी, क्योंकि जिला में तीनों विधायक बीजेपी के ही हैं और सरकार भी बीजेपी की ही है। बंजार कालेज में तो बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष पंडित खीमी राम की प्रतिष्ठा का सवाल था, जिसे एबीवीपी ने पूरा सम्मान दिया और चारों सीटें अपने नाम कर लीं। उधर आनी के बीजेपी के विधायक किशोरी लाल को भी एबीवीपी के कार्यकर्ताओें ने निराश नहीं किया। इसी तरह हरिपुर कालेज में विधायक गोविंद सिंह ठाकुर की प्रतिष्ठा सलामत रही। कुल मिलाकर जिला कुल्लू में चार में से तीन कालेजों में एबीवीपी द्वारा क्लीन स्वीप करते हुए एनएसयूआई व एसएफआई की खुशियां छीन ली।

You might also like