मंडी कालेज में एबीवीपी एनएसयूआई में सीधी टक्कर

नरेंद्र शर्मा, मंडी

वल्लभ डिग्री कालेज में एबीवीपी और एनएसयूआई के बीच इस बार फिर कांटे की टक्कर होने की संभावनाएं दिखाई दे रही हैं। हालांकि एसएफआई भी इस मुकाबले को रोचक बनाने में अपना पूरा जोर लगा रही है। उधर, एसएफआई इस बार खाता खोलना चाहती है, लेकिन मुख्य मुकाबला एबीवीपी और एनएसयूआई के बीच होने से उसकी राह फिर कठिन ही लग रही है। नामिनेशन होने के बाद उम्मीदवारों की भी तस्वीर साफ हो गई है। बुधवार को तीनों संगठनों ने अपने-अपने शक्ति प्रदर्शन भी किए। एनएसयूआई ने अपनी ताकत दिखाते हुए पड्डल में घेरा बनाकर एकता का प्रदर्शन किया, वहीं एबीवीपी ने कालेज कैंपस में शक्ति प्रदर्शन कर अपना दबदबा दिखाया है। एसएफआई ने भी अपना शक्ति प्रदर्शन कर प्रचार अभियान भी तेज किया। बुधवार को एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने डोर-टू-डोर प्रचार भी किया। इसके अलावा शहर में भी प्रचार किया गया, ताकि छात्र वोटर प्रभावित हो सकें। कभी मंडी कालेज कामरेडों का गढ़ था, मगर अब एबीवीपी ने इस पर कब्जा जमाया हुआ है। पिछले तीन सालों से कालेज में एबीवीपी का दबदबा रहा है। एबीवीपी के नेता तपेंद्र ठाकुर का कहना है कि इस बार भी एबीवीपी चारों सीटें जीतेगी। एनएसयूआई के योगेश पटियाल का कहना है कि पिछली हार का बदला इस बार चुकाया जाएगा।

You might also like