मंत्री गायब, हंगामा

नई दिल्ली। लोकसभा में अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों पर अत्याचार की बढ़ती घटनाओं पर चर्चा के दौरान किसी कैबिनेट मंत्री के नहीं होने के विरोध में आज विपक्ष ने भारी हंगामा किया।

बहुजन समाज पार्टी के डा. बलिराम जब इस मुद्दे पर बोल रहे थे, तभी उनकी पार्टी के कुछ सदस्यों ने पीठासीन उपाध्यक्ष का ध्यान सदन में किसी कैबिनेट मंत्री के उपस्थित नहीं होने की ओर आकृष्ट किया।

समाजवादी पार्टी के सदस्यों ने भी इसे लेकर विरोध जताना शुरू कर दिया। भारतीय जनता पार्टी तथा उसके सहयोगी दल के सदस्य भी इस विरोध में शामिल हो गए। सपा, बसपा, शिवसेना और अकाली दल के सदस्य अध्यक्ष के आसन के समीप पहुंच गए और सरकार के विरुद्ध नारेबाजी करने लगे।

इसी दौरान श्रम मंत्री मल्लिकार्जुन खड़गे तथा पंचायती राज मंत्री सी पी जोशी सदन में पहुंच गए, लेकिन सदस्य शांत नहीं हुए और वे गृह मंत्री पी चिदंबरम की उपस्थिति की मांग करने लगे। थोड़ी देर बाद श्री चिदंबरम ने सदन में पहुंचकर स्थिति को संभाला और सदस्यों को शांत किया।

You might also like