मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव हड़ताल पर

हमीरपुर। फेडरेशन आफ मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव एसोसिएशन  आफ इंडिया के आह्वान पर सीटू से संबंधित हिमाचल प्रदेश मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव की हमीरपुर  इकाई ने दो दिनों की हड़ताल शुरू कर दी है। हड़ताल के साथ ही अपनी मांगों को लेकर मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव  एसोसिएशन के सदस्यों ने उपायुक्त कार्यालय के बाहर चौक पर धरना प्रदर्शन भी किया। एसोसिएशन के सदस्यों ने धरना प्रदर्शन में अपनी मांगों को पूरा करने को लेकर नारेबाजी करते हुए प्रदेश सरकार के खिलाफ रोष भी निकाला। इसके बाद एसोसिएशन के सदस्यों ने उपायुक्त के माध्यम से मुख्यमंत्री को अपनी मांगों को लेकर ज्ञापन भी भेजा। इस अवसर पर धरने को सीटू के राज्य महासचिव डाक्टर कश्मीर सिंह ने संबोधित करते हुए कहा कि  प्रदेश सरकार ने आज तक संसद द्वारा पारित सेल प्रोमोशन एक्ट को लागू नहीं किया है। प्रदेश सरकार जान-बूझकर इसे लागू नहीं कर रही है। सेल प्रोमोशन से जुडे़ कामगारों को सूबे में न्यूनतम वेतन भी नहीं दिया जा रहा है। सेल प्रोमोशन में लगे कामगारों के काम के घंटे भी तय नहीं किए गए हैं। इस कारण इस पेशे में लगे कामगारों को 10 से 12 घंटे काम करना पड़ता है। जो कि कामगारों के हित में नहीं है। कश्मीर सिंह ने प्रदेश सरकार से सेल प्रोमोशन एक्ट को सूबे में तुरंत लागू किए जाने की मांग की।

वहीं धरने को एसोसिएशन के सचिव एमएल शर्मा ने भी संबोधित किया। उन्होंने कहा कि सरकार सूबे में सेल प्रोमोशन एक्ट को अतिशीघ्र लागू करे और इस पेशे में लगे कामगारों के साथ हो रहे अन्याय से उन्हें बचाए। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि मेडिकल सेल रिप्रेजेंटेटिव को अस्पताल में काम करने के लिए आठ घंटे का समय दिया जाए। सरकार ने जो समय निर्धारित किया हुआ है, उसमें उनका काम पूरा नहीं हो पाता है। श्री सिंह ने कहा कि इसके साथ ही उपभोक्ताओं को सस्ती से सस्ती दवाइयां उपलब्ध करवाई जाएं और दवाइयों की कालाबाजारी एवं नकली दवाइयों के कारोबार पर तुरंत रोक लगाई जाए। इसके साथ ही प्रदेश सरकार मेडिकल सेल रिप्रेजेंटेटिव को पहचान पत्र भी जारी करे। धरना प्रदर्शन में जीएस मेहता, कर्ण सिंह राठौर, जसपाल शर्मा और एमएल शर्मा सहित काफी संख्या में मेडिकल
सेल रिप्रेजेंटेटिव ने भाग लिया। उधर, सीटू के महासचिव कश्मीर सिंह ने बताया कि सेल प्रोमोशन से जुड़े कामगारों को न्यूनतम वेतन नहीं दिया जा रहा है

You might also like