यमुना किनारे दिल्ली को खाली करवाया

नई दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी में यमुना का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर बने रहने की वजह से रविवार को प्रशासन ने उससे सटे निचले इलाके खाली करा दिए और लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया। यमुना का जलस्तर खतरे से ऊपर बने रहने से बाढ़ का खतरा उत्पन्न हो गया है। मौसम विभाग के अनुसार शनिवार रात से दिल्ली में बारिश जारी थी और रविवार दोपहर तक 50.5 मिलीमीटर बारिश रिकार्ड की गई। दिल्ली के कुछ हिस्सों में जोरदार बारिश की चेतावनी दी गई है, जिसके चलते हालात और बिगड़ने का खतरा मंडरा गया है। हरियाणा के हथिनीकुंड बैराज से पानी छोड़े जाने की वजह से यमुना का जलस्तर खतरे से 22 सेंटीमीटर ऊपर 205.05 मीटर बना हुआ है। सिंचाई एवं बाढ़ नियंत्रण विभाग के मुख्य अभियंता वीपीएस तोमर ने बताया  कि जलभराव के क्षेत्रों में मूसलाधार बारिश के बाद रविवार सुबह आठ बजे तक हथिनीकुंड बैराज से करीब 34,600 क्यूसिक पानी छोड़ा गया है। यमुना का जलस्तर शुक्रवार रात खतरे के निशान 204.8 मीटर को पार कर गया था। उन्होंने बताया कि प्रशासन हालात पर काबू पाने के लिए हरसंभव एहतियात बरत रहा है। उन्होंने कहा कि प्रशासन बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है। उन्होंने बताया कि करीब 150 तकनीकी कर्मचारी यमुना के जलस्तर पर नजर रखे हुए हैं। स्थिति पर नजर रखने के लिए एक नियंत्रण कक्ष चौबीसों घंटे काम कर रहा है। इसके अलावा करीब 63 नौकाएं और गोताखोर तथा आपदा प्रबंधन बल का दल यमुना तट के समीप तैनात है।

You might also like