युवा कांग्रेस में फेरबदल की आहट

शिमला। प्रदेश युवा कांग्रेस के पदाधिकारियों को अपना काम दिखाना होगा। काम के बूते ही ये लोग कुर्सी पर बने रह सकते हैं। किसी भी नेता के आशीर्वाद से कुर्सी पर काबिज होने का सपना अब पूरा नहीं होगा, क्योंकि राहुल गांधी की सोच इसके बिलकुल विपरीत है। यह सबक युवा कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी बने विश्व रंजन मोहंती ने राज्य के युवा कांग्रेसियों को दिया है। उन्होंने संकेत दिए हैं कि युकां में वही लोग रह सकेंगे, जो काम करेंगे। अब पदाधिकारी अपनी आकांओं के बूते कुर्सी पर बैठे नहीं रह सकेंगे। हिमाचल प्रदेश में युवा कांग्रेस के पदाधिकारियों को यह नसीहत देने के साथ प्रभारी ने साफ कहा है कि वह अगले एक माह तक उनका कामकाज देखेंगे और उम्मीदों पर खरा नहीं उतरने वालों को पदों से हटाया जाएगा। श्री मोहंती ने संगठन कार्यकारिणी की बैठक ली और उनसे प्रदेश में चल रहे कार्यों के बारे में जाना। साथ ही अभी तक उन लोगों ने क्या-क्या किया है, इसकी भी जानकारी ली।यहां बता दें कि आलाकमान ने युवा कांग्रेस को कुछ महत्त्वपूर्ण काम दे रखे हैं और कहा है कि संगठनके कार्यक्रमों को जनता तक पहुंचाएं। हिमाचल प्रदेश में कुछ हद तकइस दिशा में काम हुआ है, लेकिन पूरी तरह से केंद्रीय निर्देशों का पालन हो  रहा है, यह कहना सही नहीं होगा। युवा कांग्रेस के संगठनात्मक चुनावों को लेकर प्रदेश प्रभारी का कहना है कि फिलहाल चुनाव नहीं होंगे और उससे पहले वह पुरानी कार्यकारिणी के कामकाज को देखेंगे। वैसे दूसरे राज्यों में युवा कांग्रेस संगठन के चुनाव चल रहे हैं और यहां भी प्रदेश युवा कांग्रेस अध्यक्ष मनमोहन कटोच का  कार्यकाल पूरा हो चुका है। श्री कटोच का कार्यकाल करीब दो माह पहले पूरा हो चुका है, लिहाजा हिमाचल में नया अध्यक्ष बनना है। अभी इसमें कोई बदलाव होगा, इससे मोहंती पूरी तरह से इनकार करते हैं। जानने योग्य है कि  युवा कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर मनमोहन कटोच से पहले कई साल तक चुनाव नहीं करवाए गए। एक ही व्यक्ति कई सालों तक अध्यक्ष रहे। नतीजतन यहां युवा कांग्रेस के कामकाज में कोई उत्साह नहीं था। अब क्योंकि राहुल गांधी ने लोकतांत्रिक प्रक्रिया को अपनाने पर जोर दे रखा है, तो उम्मीद है कि वह प्रभारी के माध्यम से यहां  पदाधिकारियेां का कामकाज देखेंेगे और उसके बाद इन्हें बदलने या नहीं बदलने का निर्णय होगा।

You might also like