राजगढ़ में समझाया कानून

राजगढ़ कोठिया जाजर में राज्य समाज कल्याण बोर्ड शिमला के सौजन्य से तथा आरुशी ग्रामीण संस्था राजगढ़ के सहयोग से आयोजित आठ दिवसीय जागरूकता शिविर के तीसरे दिन तहसील कल्याण अधिकारी  एसएच चौहान ने स्थानीय महिलाओं को उनके अधिकारों तथा उन्हें दी जा रहीं सहूलियतों व कानूनी अधिकारों बारे जागरूक किया। उन्होंने बताया कि जो संतानें अपने मां-बाप को दर-दर की ठोकरें खाने के लिए छोड़ देती हैं, उनके खिलाफ सताए जा रहे मां-बाप उपमंडलाधिकारी के पास शिकायती पत्र सौंप कर उन्हें खर्च देने हेतु मजबूर कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि अंतरजातीय विवाह योजना के तहत यदि कोई स्वर्ण जाति का लड़का किसी हरिजन लड़की से शादी करता है, तो उसे सरकार द्वारा 25 हजार रुपए बतौर प्रोत्साहन राशि दिए जाने की व्यवस्था की गई है।

You might also like