रोजगार में रोड़ा बना जंगल

स्टाफ रिपोर्टर, धर्मशाला

फोरेस्ट लैंड ने कांगड़ा की एक ग्राम पंचायत का विकास रोक दिया है। धर्मशाला के निकटवर्ती ग्राम पंचायत कंड-करियाड़ा में ग्रामीणों को रोजगार के लिए पहले भूमि तलाशनी पड़ रही है। हालात यह हैं कि उक्त पंचायत में महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना भी लोगांंे को रोजगार प्रदान करने में कोई खास सहयोग नहीं कर पा रही। मनरेगा अधिनियम के तहत आवेदक को एक साल में सौ दिन का रोजगार देना अनिवार्य है, परंतु विकास कार्य करवाने के लिए उक्त पंचायत के लिए पर्याप्त भूमि ही नहीं है। जानकारी के मुताबिक ग्राम पंचायत कंड-करियाड़ा मंे वर्तमान मंे 282 जॉब कार्ड धारक हैं। उक्त सभी लोग मनरेगा के तहत रोजगार के लिए तो आवेदन कर रहे हैं, परंतु कहीं न कहीं इस पंचायत मंे जंगल लोगों के रोजगार के लिए रास्ते का रोड़ा बन रहे हैं, वहीं दूसरी ओर खंड विकास अधिकारी धर्मशाला राम प्रसाद शर्मा ने बताया कि उक्त ग्राम पंचायत में फोरेस्ट लैंड अधिक होने के कारण विकास कार्यों और मनरेगा के तहत लोगों को रोजगार प्रदान करने में दिक्कतें पेश आ रही हैं, वहीं खंड विकास अधिकारी ने बताया कि संबंधित ग्राम पंचायत प्रधान को ग्रामीणांे को रोजगार प्रदान करने के लिए अन्य प्रकार के विकास कार्य भी करवाए जा सकते हैं।

You might also like