रोमांचक यात्रा की सहजता

डा. एनआर गोपाल की यह पुस्तक एक अच्छा यात्रा विवरण प्रस्तुत करती है। इन जगहों से अपरिचित किसी भी व्यक्ति के लिए यह किताब सबसे बड़ी सहायक सिद्ध होगी। इसमें मानचित्रों और विशेष स्थानों के चित्रों से सुसज्जित होने से और भी आसानी होगी। किताब में लाहौल की उप तहसील उदयपुर के गांव कुकुमसेरी से यह यात्रा शुरू होकर रोहतांग में समाप्त होती है। इस पुस्तक की खूबी भी यही है कि बिना  अनुमान लगाए किसी यात्रा पर निकल पड़ने वालों के सामने कैसी परेशानियां आ सकती हैं। प्रकृति सुंदर है पर इसका भयावह रूप कितना खतरनाक है यह लेखक  के अनुभवों को आत्मसात करके ही जाना जा सकता है। लेखक ने कुल्लू से हवाई मार्ग से जाना चाहा। दो दिन तक मौसम ने ही साथ नहीं दिया। अंततः वायुसेना के हेलिकाप्टर पर सवार हुए। एक घंटे की उड़ान के बाद मौसम बेहद खराब हो गया और उन्हें फिर वापस लौटना पड़ा। अगले तीन दिनों के बाद की उड़ान कामयाब रही और इस तरह उदयपुर तक की यात्रा संपन्न हुई। दो ग्लेशियर पार करके कुकुमसेरी पहुंचने पर लेखक वहां के नयनाभिराम दृश्य को देखकर  चकित रह जाता है। कुकुम एक सुंदर पीले रंग का फूल होता है और लाहुलीभाषा में सेरी खेत या मैदान को कहते हैं। कुकुमसेरी पहुंचने के बाद शुरू होती हैं नित्य की कठिनाइयां। मसलन कि लेखक ने पाया कि नलों में पानी जम गया था। चारों तरफ फैली हुई बर्फ और प्रकृति की सुंदरता के बीच चंद्रभागा के प्रवाह का स्वर भी उन्हें रोमांचित करता है। पुस्तक में प्राकृतिक सुंदरता के सशक्त चित्रण के साथ ऐतिहासिक जानकारियां भी दी हुई हैं। तांदी, त्रिलोकी नाथ मंदिर, जालमा जैसे पर्वतीय दुर्गम क्षेत्रों की वास्तविक कठिनाइयों के बारे में जानना है, तो इस पुस्तक को अवश्य पढ़ना चाहिए। वापसी के लिए एक बर्फीला रास्ता पार कर हेलिपैड तक पहुंचना और वहां तक लेखक के पहुंचने से पहले ही  हेलिकॉप्टर का उड़ जाना। गिरते पत्थर, चट्टानें, रास्ते की ढेरों कठिनाइयां जो रहस्यमय, खतरनाक और रोमांचक हैं, इन सभी का परिचय आपको इस पुस्तक में मिलेगा। कहते हैं अनुभूत सच पर अगर कल्पनाशीलता का आवरण न हो तो भी वह खूबसूरत लगता है। खासकर रोहतांग की बर्फ में फंस जाने और वहां से निकलने का विवरण पढ़कर आप विचलित हुए बिना नहीं रहेंगे। पूरी किताब ग्लासी पेपर पर है। आवरण सुंदर है भाषा सरल और सहज। वस्तुतः अपने सुंदर चित्रों और वास्तविक अनुभव के कारण यह पुस्तक और भी आकर्षक बन पड़ी है। साहसिक यात्रियों तथा पर्यटकों के लिए यह पुस्तक वरदान सिद्ध होगी।

You might also like