शेयर बाजार में रहेगी तेजी

मुंबई। उतार-चढ़ाव के बीच बीते सप्ताह मुंबई शेयर बाजार (बीएसई)  सेंसेक्स के 234.79 अंक बढ़कर 18401.82 अंक और नेशनल स्टाक एक्सचेंज  (निफ्टी) में 78.55 अंकों की बढ़त के साथ 5500 अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर को पार करते हुए 5530.65 अंक पर रहा। शेयर बाजारों में तेजी के सिलसिले के अभी बने रहने की पूरी संभावना है, लेकिन खुदरा निवेशकों को सतर्कता से निवेश करने की सलाह दी गई है। पूंजी बाजार विश्लेषकों का कहना है कि अमरीका मेंं बेरोजगारी बढ़ने तथा जापान के वित्तीय आंकडे़ सही नहीं होने से उन दोनों आर्थिक महाशक्तियों के मंदी से उबरने में अभी वक्त लगने की आशंका से विदेशी संस्थागत निवेशक (एफआईआई) भारत की ओर रुख कर रहे हैं। उनकी मानें, तो तंत्र में पर्याप्त तरलता है और भारतीय आर्थिक विकास परिदृश्य के बेहतर रहने की विश्लेषकों की भविष्यवाणियों से न सिर्फ एआईआई बल्कि घरेलू संस्थागत निवेशक (डीआईआई) भी निवेश करने से पीछे नहीं हट रहे हैं। उनका कहना है कि हालांकि शेयर बाजार के अढ़ाई वर्षों के उच्चतम स्तर पर होने से मुनाफावसूली के लिए बिकवाली के दबाव बने रहने की संभावना है। इसके मद्देनजर खुदरा निवेशकों को सतर्कता के साथ निवेश करने की सलाह दी गई है। विश्लेषकों ने कहा कि चालू वर्ष के अंत तक  सेंसेक्स 21 हजार अंक के पार जा सकता है। मंदी शुरू होने से पहले जनवरी, 2008 के तीसरे सप्ताह में यह 21 हजार अंक के पार हो गया था, लेकिन उसके बाद शुरू गिरावट के बाद से यह उस स्तर को पार नहीं कर पाया है, लेकिन अब जो आर्थिक  परिदृश्य बन रहे हैं उसमें इसके इस वर्ष के अंत तक 21 हजार अंक के पार होने की संभावना है। बीते सप्ताह पांच में से तीन कारोबारी दिवसों में शेयर बाजारों में मुनाफावसूली के जोर रहने के बावजूद सेंसेक्स 1.29 फीसदी अर्थात 234.79 अंक उछल कर 18401.82 अंक पर रहा। निफ्टी 1.44 प्रतिशत अर्थात 78.55 अंक बढ़कर अढ़ाई वर्षों के बाद 5500 अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर को पार कर 5530.65 अंक पर रहा। गुरुवार को सेंसेक्स पांच फरवरी, 2008 के बाद 18454.94 अंक पर रहा था।

You might also like