संडे को कूड़ादान बन गई शहर की सड़कें

हमीरपुर। जिला में रविवार को सड़क के बीचोंबीच कूड़े के ढेर लगना आम बात हो गई है। रविवार को जब ‘दिव्य हिमाचल’ ने हमीरपुर शहर का मुआयना किया, तो जगह-जगह पर दुकानदारों द्वारा कचरे के इतने ढेर लगाए गए थे कि लोगों को सड़क से गुजरने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। दुकानदार सड़े फलों के बोरे भी सड़क में फेंक देते हैं। सड़क पर कचरे के ढेर लगने के कारण छोटे-छोटे बच्चों को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। रविवार को बाजार में भीड़ न होने का फायदा उठाकर दुकानदार दुकानों की सफाई कर सड़क में कचरे को फेंक देते हैं। दुकानदारों की हर सप्ताह की जा रही कारगुजारी से नगर परिषद भी बेखबर है। लोगों का कहना है कि अगर प्रशासन व नगर परिषद ने इन दुकानदारों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की, तो क्षेत्र में कई बीमारियां भी फैल सकती हैं। नगर परिषद की कार्यप्रणाली ढीली है। कारण शहर के लोग हर समय परेशानियों से जूझते रहते हैं। बुद्धिजीवी लोगों का कहना है कि जहां-जहां पर सड़क में कचरे के ढेर लगे होते हैं, वहां पर लोगों को सांस लेने में भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। नगर परिषद की कार्यप्रणाली से भी खफा हो गए हैं। क्षेत्रवासियों का कहना है कि नगर परिषद को दुकानदारों द्वारा की जा रही इस कारगुजारी से कई बार अवगत करवाया जाता है, लेकिन नगर परिषद भी आश्वासन देकर उन्हें टाल देती है। लोगों का कहना है कि अगर सड़क में ही कचरा फेंकना है, तो फिर सरकार कंटेनरों पर करोड़ों रुपए खर्च कर पैसे की बर्बादी क्यों कर रही है। क्षेत्रवासियों ने नगर परिषद से मांग की है कि ऐसे लोगों से सख्ती से निपटा जाए। उधर, नगर परिषद के अध्यक्ष दीप कुमार का कहना है कि नगर परिषद के कर्मचारी समय-समय पर शहर में सफाई व्यवस्था को जांचते रहते हैं, यदि फिर भी ऐसा हो रहा है, तो विशेष अभियान चलाकर ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

You might also like