सोलन में 17 करोड़ पानी

सोलन। जिला में बरसात से हुए नुकसान का आंकड़ा 17 करोड़ रुपए तक पहुंच गया है। पिछले एक सप्ताह में हुई मूसलाधार बरसात के कारण तीन करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है, जबकि कंडाघाट में दो लोगों की मौत हुई है। सबसे अधिक नुकसान लोक निर्माण विभाग को झेलना पड़ रहा है। विभाग को प्रतिदिन औसतन 50 लाख रुपए  का चूना लग रहा है। गत सप्ताह जिला में बरसात के कारण मात्र 14 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ था। लोक निर्माण विभाग को अब तक दस करोड़ रुपए का नुकसान बरसात की वजह से हो चुका है। इसी प्रकार केंद्रीय लोक निर्माण विभाग को भी दो करोड़ रुपए का नुकसान झेलना पड़ा है। लगातार सड़कों पर गिर रहे डंगों व मलबे ने विभाग की कमर तोड़ कर रख दी है। इसके अलावा आईपीएच विभाग को भी अब तक तीन करोड़ रुपए का चूना लग चुका है। बरसात के कारण विभाग के कई पंप हाउस क्षतिग्रस्त हो चुके हैं।  नदी-नालों के किनारे बने पंप हाउस को भी काफी नुकसान पहुंचा है। जिला में विभाग की तीन दर्जन से अधिक पेयजल योजनाएं प्रभावित हुई हैं, जबकि कई जगह से जल वितरण पाइप लाइन व फीडर लाइन बह चुकी है। इसके अलावा जिला में कृषकों व बागबानों को भी इस वर्ष अब तक  करीब 1.50 करोड़ रुपए का नुकसान हो चुका है। बीते दिनों बरसात के साथ आए तेज तूफान के कारण  बागबानों के पलम, आड़ू व खुमानी आदि नीचे गिर गए, जबकि जिला के निचले क्षेत्रों में किसानों की फसलें भी बरसात की वजह से तबाह हो चुकी हैं। जिला में अब तक 50 मकान क्षतिग्रस्त हो चुके हैं, जबकि दो दर्जन गौशालाएं भी ढह चुकी हैं। इस सबके कारण 30 लाख रुपए की निजी संपत्ति का नुकसान लोगों को सहन करना पड़ा है, जबकि दो लोगों की जानें जा चुकी हैं। इसी प्रकार नगर परिषद व नगर पंचायतों को भी अब तक 50 लाख का नुकसान हो चुका है। एडीएम सोलन केसी चमन का कहना है कि बरसात से हुए नुकसान की रिपोर्ट प्रतिदिन प्रदेश सरकार को भेजी जा रही है, जबकि निजी संपत्ति के नुकसान पर लोगों को आर्थिक सहायता भी प्रदान की जा रही है। बहरहाल सोलन जिला में बरसात से हुए नुकसान का आंकड़ा 17 करोड़ रुपए तक पहुंच गया है।

You might also like