स्थानीय कलाकारों को तरजीह

दिव्य हिमाचल ब्यूरो, रिकांगपिओ

इस वर्ष 30 अक्तूबर से दो नवंबर तक होने वाले राज्य स्तरीय किन्नौर महोत्सव में स्थानीय एवं प्रदेश के कलाकारों के साथ-साथ भारत के विभिन्न क्षेत्रों के पारंपरिक लोक एवं शास्त्रीय कलाओं पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रमों को प्राथमिकता दी जाएगी, ताकि इस जनजातीय क्षेत्र के लोग भारत की समृद्ध सांस्कृतिक संपदा को देख सकें। रिकांगपिओ में राज्य स्तरीय किन्नौर महोत्सव आयोजन समिति की प्रथम बैठक की अध्यक्षता करते हुए किन्नौर की उपायुक्त एवं अध्यक्ष किन्नौर महोत्सव समिति ममता ने कहा कि इन उत्सवों का उद्देश्य हमारी बहुमूल्य संस्कृति व लोक कलाओं को विलुप्त होने से बचाए रखना है।

उन्होंने कहा कि पूर्व की भांति इस वर्ष भी हिमाचली व किन्नौरी नाइट का आयोजन किया जाएगा, जिसमें यहां की विशुद्ध लोक संस्कृति को प्राथमिकता दी जाएगी। उन्होंने कहा कि मेले के दौरान व्यापार के माध्यम से स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा दिया जाएगा तथा विभिन्न विभागों द्वारा अनेक उपलब्धियों तथा आधुनिक तकनीक को दर्शाते हुए प्रदर्शनियां लगाई जाएंगी व खेल प्रेमियों के लिए अनेक खेलकूद प्रतियोगिताओं का आयोजन भी किया जाएगा। उन्होंने कहा कि लोगों की सुविधा के लिए मेले के दौरान विभिन्न स्थानों से विशेष बसें चलाई जाएंगी तथा पिओ सेक्टर सड़क में और सुधार कर इसे चौड़ा करने के साथ जगह-जगह पासिंग स्थल बनाए जाएंगे। बैठक में किन्नौर महोत्सव के सफल आयोजन को विभिन्न उपसमितियों का गठन किया गया।

You might also like