684 लड़कियों पर सवा सात लाख खर्च

कार्यालय संवाददाता, सोलन

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के तहत समेकित बाल विकास परियोजनाओं की जिला समन्वयन समिति की बैठक शनिवार को यहां उपायुक्त अमर सिंह राठौर की अध्यक्षता में हुई। इसमें सभी विकास खंडों के बाल परियोजना अधिकारियों ने भाग लिया।

बैठक में उपायुक्त श्री राठौर ने बताया कि ‘बेटी है अनमोल’ कार्यक्रम के तहत सोलन जिला में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग तथा सामान्य वर्ग की बीपीएल की दो कन्याओं के नाम से डाकघर अथवा बैंक में उनके नाम से पांच हजार एक सौ रुपए की राशि जमा करवाई जाती है। उन्होंने कहा कि इस राशि को बेटी 18 वर्ष से पूर्व नहीं निकाल सकती है। इसके अतिरिक्त इस योजना के तहत ऐसी लड़कियों को शिक्षा ग्रहण करने के लिए पहली से जमा दो कक्षा तक विभाग द्वारा छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है, ताकि लड़कियां अपनी पढ़ाई पूरी कर सकें।

श्री राठौर ने बताया कि सोलन जिला में बेटी है अनमोल कार्यक्रम के तहत 684 पात्र लड़कियों पर 7.27 लाख रुपए व्यय किए गए। उन्होंने कहा कि सोलन जिला के सभी विकास खंडों में पूरक पोषाहार कार्यक्रम के तहत 30128 बच्चों, 7050 गर्भवती महिलाओं तथा 4964 बीपीएल परिवार की किशोरियों को पौष्टिक पोषाहार उपलब्ध करवाया जा रहा है। उपायुक्त श्री राठौर ने बताया कि स्वयंसिद्धा योजना के तहत महिलाओं को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने के लिए सोलन जिला को 26.42 लाख रुपए प्राप्त हुए थे, जिसमें से 25.79 लाख रुपए की राशि इस योजना के तहत खर्च की जा चुकी है।

उन्होंने बताया कि स्वयं सहायता समूह योजना के तहत जिला में 2454 स्वयं सहायता समूह पंजीकृत हैं, जिसमें से सोलन में 442, कंडाघाट में 222, धर्मपुर में 465, कुनिहार में 668 व नालागढ़ विकास खंड में 657 स्वयं सहायता समूह कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि 1380 स्वयं सहायता समूह को बैंकों से जोड़ा गया है और इन समूहों को अपना काम आरंभ करने के लिए 19.14 लाख रुपए की राशि ऋण के रूप में प्रदान की गई है। उन्होंने कहा कि इस योजना से महिलाएं आत्मनिर्भर हो रही हैं। उपायुक्त श्री राठौर ने उपस्थित बाल विकास परियोजना अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे आंगनबाड़ी केंद्रों के भवनों के लिए भूमि का चयन कर मामले स्वीकृति के लिए भिजवाएं, ताकि आंगनबाड़ी केंद्र के भवनों
का निर्माण किया जा सके। बैठक में जिला कार्यक्रम अधिकारी अर्जुन नेगी, बाल कल्याण परियोजना अधिकारी जयपाल शर्मा, जिला परिषद सदस्य शांति पुंडीर व जयवंती भी उपस्थित थी।

You might also like