प्रशिक्षु डाक्टर ने जहर खाया

चमन डोहरू, बैजनाथ

राजीव गांधी आयुर्वेदिक महाविद्यालय पपरोला के अंतिम वर्ष के छात्र ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली। आत्महत्या के कारणों का अब तक खुलासा नहीं हो पाया है। बता दें कि सरकाघाट के घरो (दारपा) के 22 वर्षीय सन्नी जम्वाल पुत्र रमेश चंद की बीएएमएस की पांच माह बाद पढ़ाई पूरी होने वाली थी। ऐसे में आत्महत्या क्यों की, इस पर सवालिया निशान लग गए हैं। मिली जानकारी के अनुसार सन्नी जम्वाल पपरोला के खतरेहड़ गांव में प्रीतम चंद के यहां किराए के कमरे में रहता था। मंगलवार सुबह करीब चार बजे प्रीतम चंद रोजमर्रा की तरह उठे, तो देखा कि सन्नी के कमरे की लाइट जगी थी व सन्नी चीख रहा था। ऐसे में प्रीतम चंद ने उसका दरवाजा खटखटाया। कुछ देर बार उसने दरवाजा खोला व प्रीतम चंद से कहने लगा कि मुझे नमक वाला पानी पिलाओ, उसकी बिगड़ती हालत देखकर प्रीतम ने उसे आयुर्वेदिक अस्पताल पहुंचाया, मगर डाक्टरों की लाख कोशिशों के बावजूद उसे बचाया न जा सका।

उधर, पुलिस ने मामला दर्ज कर लाश का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को सौंप दी है। एएसआई ओम चंद ने बताया कि पुलिस तहकीकात कर रही है। महाविद्यालय के प्राचार्य डा. वाईके शर्मा ने इस घटना को दुखद बताया। उनका कहना है कि सोमवार को ही सन्नी महाविद्यालय में हाउस रेस्ट देकर गया था। उसने ऐसा क्यों किया, समझ से बाहर है। मात्र पांच माह बाद तो वह डाक्टर बनने वाला था। उन्होंने बताया कि सन्नी के पिता व रिश्तेदार भी हैरान हैं। बहरहाल, छात्र की आत्महत्या मामले में दिनभर कालेज में माहौल गमगीन रहा तथा रोजमर्रा के कार्यों पर विराम लग गया।

You might also like