बदरिया से बरसने की आस मत रखना

शिमला — हिमाचल बादलों से तो घिर रहा है, लेकिन दूर-दूर तक इसके बरसने के कोई आसार नजर नहीं आ रहे, जिससे हालात काफी खराब हो चुके हैं। ठंड इतनी पड़ गई है कि जनजातीय क्षेत्रों में नदी नालों में पानी जमने लग पड़ है। शाम ढलते ही कुछ क्षेत्रों का पारा जमाव बिंदू के पास पहुंच रहा है, जिससे हालात काफी नाजुक हो गए हैं। रविवार देर शाम तो रोहतांग में बर्फबारी भी शुरू हो गई थी। मौसम विभाग ने लोगों को मायूस करते हुए पूर्वानुमान जारी किया र्है कि प्रदेश में 22 नवंबर तक बारिश व बर्फबारी के कोई आसार नहीं हैं। इस प्रकार प्रदेश में अभी लोगों को और सूखी ठंड का सामना करना पड़ेगा। बारिश न होने से लोग काफी पेरशान होने लग पडे़ हैं, बारीश के अभाव में कई तरह की बीमारियो ने लोगों को अपनी गिरफ्त में ले लिया है। पैदावार पर पहले से ही सूखे का असर पड़ चुका है। प्रदेश में बिजाई का काम पहले ही रुक चुका है, जो आने वाले समय में खाद्य संकट की ओर इशारा कर रहा है। खासकर उन क्षेत्रों मे जहां पर खेत सिंचाई सुविधा से नही जुड़ पाए हैं। अब अगर हफ्ते भर के भीतर अगर बारिश नही होती है तो कोई बडा़ संकट पैदा हो सकता है। रविवार को प्रदेश के जनजातीय क्षेत्रों में आसमान पर बादल घिरे तो जरूर, लेकिन बिन बरसे ही  लौट गए, जिससे क्षेत्र में लोगों को काफी मायूसी हाथ लगी। हालांकि यहां पर लोग अब न तब बारीश होने की आस लगा बैठे थे, लेकिन उन पर मौसम की कोई मेहरबानी नहीं दिखी।

You might also like