बूढ़े ट्रांसफार्मर लोड उठाने में फेल

 हमीरपुर —हमीरपुर शहर में लंबे अरसे से निरंतर चल रही बिजली की आंख मिचौनी से समूचे शहरवासी तंग आ चुके हैं। बार-बार की शिकायतों के बावजूद परिणाम शून्य रहते हैं और अब तो आलम यह है कि रोजाना आठ-दस बार हमीरपुर शहर की बिजली गुल होना अब आम बात हो गई है। शिकायत दर्ज करवाने पर बोर्ड का जवाब वही पुराना रहता है कि पीछे से गई है, आ जाएगी। दरअसल शहर में बढ़ रही बिजली की समस्या शहर में विद्युत बोर्ड द्वारा बिछाए और खराब हो चुके पुराने सिस्टम के कारण हो रही है। शहर को विद्युत आपूर्ति मुहैया करवाने वाली तारें व खंभे जर्जर अवस्था में पहुंच चुके हैं। ट्रांसफार्मर लोड उठाने में नाकाम हो चुके हैं और जरा सा भी ओवरलोड होने की स्थिति में शहर की बत्ती गुल हो जाती है। अपने गले-सड़े सिस्टम के साथ बोर्ड के बचे खुचे कर्मचारी विद्युत व्यवस्था बहाल करने के लिए लगातार जूझते हैं, लेकिन उनकी मेहनत करीब-करीब बेकार जाती है। बोर्ड के पास कामगार कर्मचारियों का टोटा इस समस्या को और बढ़ा रहा है। विभागीय सूत्र बताते हैं कि अगर शहर में माकूल विद्युत व्यवस्था का इंतजाम करना है तो शहर की तमाम तारों, खंभों व ट्रांसफार्मों को बदला जाना है, लेकिन इसके लिए करोड़ों का बजट कहां से और कैसे आएगा, प्रशासन इस असमंजस में है। ऐसे में हमीरपुर की विद्युत व्यवस्था शहरवासियों के लिए जी का जंजाल बनी हुई है। ऐसा कोई भी साल नहीं होगा, जब हमीरपुर में शॉट सर्किट के कारण करोड़ों का नुकसान न हुआ हो, लेकिन बावजूद इसके स्थिति जस की तस बनी हुई है।

You might also like