ब्रौ में ऊपर से बरस रही सीवरेज की गंदगी

रामपुर बुशहर —  ब्रौ सड़क पर सीवरेज का गंदा पानी लोगों के सिर पर गिर रहा है, लेकिन इस बारे में आईपीएच विभाग कोई सुध नहीं ले रहा है। स्थिति यह है कि हर दिन यहां से हजारों की संख्या में लोग गुजरते हैं, जिन्हें इस प्वाइंट से  बचकर निकलना पड़ता है, लेकिन बीच सड़क पर गिर रहे गंदे पानी के छींटे हर राहगीर पर पड़ ही जाते हैं। सबसे ज्यादा मुश्किल तो स्कूल के बच्चों को पेश आ रही है। इस सड़क से ब्रौ कस्बे में रह रहे बच्चों को हर दिन रामपुर आना पड़ता है, लेकिन इस प्वाइंट पर बच्चे आकर फंस जाते हैं, जिन बच्चों के परिजन उनके साथ होते हैं वह तो बच्चों को सड़क के बिलकुल साइड से निकाल लेते हैं, लेकिन अधिकतर छोटे बच्चे इस गंदे पानी से नहीं बच पाते। इस बारे में यहां के स्थानीय लोगों ने कई मर्तबा आईपीएच विभाग को सूचित कर दिया है, लेकिन अभी तक कोई भी कार्रवाई अमल में नहीं लाई गई। विभाग का यही कहना रहता था कि इस प्वाइंट पर उनका कोई भी सीवरेज की पाइप नहीं है। जब ‘दिव्य हिमाचल’ ने इस गंदे पानी के बारे में तफतीश की तो यह जानकारी हासिल हुई कि वर्ष 2008 में उजड़े ल्हासा क्षेत्र से यह पानी आ रहा है। इस क्षेत्र के ऊपर वाले भाग में अभी भी लोग रह रहे हैं। उनका पानी कहीं और न जाकर ब्रौ सड़क पर गिर रहा है। आईपीएच विभाग का कहना है कि जब ल्हासा क्षेत्र पूरी तरह से बसा हुआ था तो यहां पर उनके सीवरेज के कनेक्शन थे, जो बाद में मकान गिरने की वजह से ध्वस्त हो गए, लेकिन कुछ घरों में अभी भी लोग रह रहे हैं, जिनका बाथरूम व सीवरेज का पानी खुले में बह रहा है। इससे पहले भी जब वर्ष 2008 में यहां पर 65 मकान जमींदोज हुए थे उस समय भी सीवरेज के पानी का खुले में बहना उस तबाही का मुख्य कारण माना जा रहा था। वहीं हाल अब फिर से बनता जा रहा है, लेकिन अब समस्या केवल ल्हासा तक ही सीमित नहीं रह गई है। आईपीएच विभाग को भी इस समस्या की पूरी जानकारी है, लेकिन अभी तक विभाग ने ल्हासा के लोगों को केवल नोटिस देकर अपनी कार्यालयी कार्रवाई पूरी कर दी है। ब्रौ निवासी ठाकुर दिलसुख का कहना है कि यह आम रास्ता है। ऐसे में गंदा पानी सिर के ऊपर गिरना विभाग की कार्यप्रणाली पर प्रश्न चिन्ह लगाता है। ठाकुर ने कहा कि आईपीएच विभाग इस समस्या को जल्द से जल्द ठीक करें।

You might also like