अक्षय संग शिमला के सौरभ

‘थ्री इडियट’ में आमिर और ‘वेलकम टू कराची’ में अरशद वारसी के साथ भी कर चुके हैं काम

अक्षय संग शिमला के सौरभबिलासपुर— बालीवुड के प्रसिद्ध निर्देशक राज कुमार हिरानी की सबसे सफल फिल्मों में शुमार ‘थ्री इडियट’ से आमिर खान के साथ अपना फिल्मी करियर शुरू करने वाले शिमला के सौरभ अग्निहोत्री जल्द ही अरशद वारसी की ‘जॉली एलएलबी’ के सिक्वल में बालीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार के साथ ‘जॉली एलएलबी-टू’ में काम करते नजर आएंगे। यह फिल्म अगले वर्ष दस फरवरी को रिलीज होगी। सौरभ इस फिल्म में मोहम्मद गुल नाम के एक कश्मीरी कॉप का किरदार निभा रहे हैं। फिल्म की शूटिंग मनाली की हसीन वादियों में की गई है। इस फिल्म को लेकर सौरभ काफी उत्साहित हैं। ‘दिव्य हिमाचल’ के साथ खास बातचीत में सौरभ ने बताया कि ‘भाग मिल्खा भाग’ में फरहान अख्तर के दोस्त मीरू का किरदार भी निभा चुके हैं। इस पूरी फिल्म में उनके अभिनय को काफी सराहा गया था। इसी फिल्म में उनकी अदाकारी को देखते हुए उन्हें अरशद वारसी की फिल्म ‘वेलकम टू कराची’ के लिए अनुबंधित किया गया था। इस फिल्म में उन्होंने कराची के डॉन भाई ब्लूच के जुबेर का किरदार निभाया था। इस फिल्म के निर्देशक ने उन्हें इसकी डबिंग के लिए विशेष रूप से मुंबई बुलाया था। इसके अलावा वह जीटी पर प्रसारित हो चुके केतन मेहता के सीरियल ‘टाइम बंब’ के साथ ही ‘जीवन संबर और एक थी सांवरी’ जैसी टेली फिल्मों में काम कर चुके हैं। सौरभ ने बताया कि उनका फिल्मी करियर रंगमंच से शुरू हुआ है। रंगमंच के जरिए ही वह बालीवुड की फिल्मों के अपने सफर को काफी हद तक पूरा करने में कामयाब हो पाए हैं। रंगमंच के अपने सफर में वह अब तक कई नाटक विश्व प्रसिद्ध गेयटी थियेटर में कर चुके हैं। जिनमें ‘मरीचिका, हम बिहार में चुनाव लड़ रहे हैं, गोदान, थ्री पेनिस ओपेरा, लोअर डे थे, मिर्जा गालिब, डा. फॉस्टस और बिल्लियां बतियाती हैं’ सहित कई नाटक शामिल हैं। उन्होंने बताया कि इसके अलावा वह कई पंजाबी व हिंदी एलबम भी बना चुके हैं। इन एलबम में पंजाब के साथ ही हिमाचल के भी कई कलाकारों को मौका दिया गया है। नाटकों के निर्देशन भी वह पिछले कई वर्षों से लगे हुए हैं। उनके निर्देशन में ही कई नाटकों को हिमाचल के रंगमंच से जुड़े कई बेहतरीन कलाकारों के साथ गेयटी के मंच पर प्रदर्शित कर चुके हैं। सौरभ ने बताया कि वह फिल्मों के साथ-साथ टीवी पर भी सक्रिय हैं। अभी तक वह फिल्मों को ही महत्त्व दे रहे हैं। लेकिन टीवी से अच्छा काम मिलने पर वह वहां भी निरंतर काम कर रहे है।

You might also like