नहीं रहे ओम पुरी

Utsavदेश के बेहतरीन एक्ट्रेस में शुमार और अपनी रौबदार आवाज के लिए मशहूर जाने-माने बालीवुड एक्टर ओम पुरी का निधन हो गया है। 66 साल के ओम पुरी को शुक्रवार सुबह दिल का दौरा पड़ा। ओम पुरी बालीवुड के उन चंद कलाकारों में से एक थे, जिन्होंने समानांतर सिनेमा से लेकर कामर्शल सिनेमा तक में कामयाबी हासिल की। उनकी मौत की खबर सुनकर उनके फैन्स सकते में हैं। ओम पुरी ने फिल्म अर्धसत्य में अभिनय की नई ऊंचाइयों को छुआ था। उन्हें इस फिल्म के लिए राष्ट्रीय अवार्ड दिया गया था। ओम पुरी ने हालीवुड की फिल्मों में भी काम किया। ओम पुरी का जन्म अंबाला के एक पंजाबी परिवार में हुआ था। 1993 में ओम पुरी ने नंदिता पुरी के साथ शादी की थी। 2013 में उनका तलाक हो गया था। उनके एक बेटे इशान हैं। ओम पुरी ने बालीवुड के अलावा ब्रिटेन और अमरीका की भी फिल्मों में काम किया। ओम पुरी और नसीरुद्दीन शाह फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीच्यूट पुणे में एक साथ पढ़ाई कर चुके हैं। कहा जाता है कि ओमपुरी को पहली फिल्म के मेहनताने में मूंगफलियां मिली थीं। ओम पुरी के फिल्मी करियर की शुरुआत 1976 में मराठी फिल्म ‘घासीराम कोतवाल’ से हुई थी। यह फिल्म विजय तेंडुलकर के मराठी नाटक पर आधारित थी। ओमपुरी का कहना था कि तब उन्हें अच्छे काम के लिए मूंगफलियां मिली थीं।

ओम पुरी की 10 बेहतरीन फिल्में

ओम पुरी ने एक चरित्र अभिनेता के अलावा नेगेटिव किरदार भी निभाए। उनकी कॉमिक टाइमिंग गजब की थी। उन्होंने ‘जाने भी दो यारों’ जैसी डार्क कॉमिडी से लेकर आज के जमाने की हंसौड़ फिल्मों में काम किया। हाल ही में उन्होंने हालीवुड एनिमेशन फिल्म जंगल बुक में एक किरदार को अपनी आवाज भी दी थी। उनकी आखिरी कामर्शल फिल्म घायल वन्स अगेन थी। उनकी मशहूर आर्ट फिल्मों में अर्ध सत्य, सद्गति, भवनी भवाई, मिर्च मसाला और धारावी आदि शामिल हैं। ‘हेरा फेरी, सिंह इज किंग, मेरे बाप पहले आप, बिल्लू’ जैसी फिल्मों में उन्होंने दर्शकों को खूब हंसाया।

You might also like