Divya Himachal Logo Jul 25th, 2017

अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ने खोली पाक की पोल

अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ने खोली पाकिस्तान की पोल

कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक से पड़ोसी मुल्क के झूठ का हुआ पर्दाफाश, जासूसी के आरोप सवालों में

newsदिव्य हिमाचल टीम – भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को जासूस बताने वाले पाकिस्तान की दुनिया भर में किरकिरी हो गई है। गुरुवार को इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस हेग ने भारतीय नागरिक की फांसी पर रोक लगा दी। कोर्ट के इस फैसले से हिमाचल में भी खुशी का माहौल है और विशेषज्ञों ने कहा है कि अब पाकिस्तान का नापाक चेहरा दुनिया के सामने आ गया है।

* अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ने पकिस्तान के झूठ की धज्ज्यिं बिखेरकर रख दी हैं। जाधव की फांसी पर रोक भारत की बड़ी कूटनीतिक विजय है

ब्रिगेडियर एसके वर्मा निदेशक, पूर्व सैनिक निदेशालय, हमीरपुर

* इंटरनेशल कोर्ट ऑफ जस्टिस का फैसला भारत की एक बड़ी कूटनीतिक जीत है। फैसले  से साफ हो गया है कि पाकिस्तान में फ्रॉड डेमोक्रेसी है, जबकि भारत की मैच्योर डेमोक्रेसी है। इस मसले पर पाकिस्तान का रवैया अनुचित रहा है। पाकिस्तान को इस फैसले को हर हाल में मानना होगा। इस केस को हरीश साल्वे ने जिस तरह कोर्ट के सामने रखा, वह भी काबिले तारीफ है

सीएम शर्मा, मेजर जनरल (रि.), शिमला

* कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगाकर इंटरनेशनल कोर्ट ने पकिस्तान को दुनिया भर में शर्मिंदा किया है। इस फैसले से हमारे पड़ोसी मुल्क की पोल सबके सामने खुल गई है

कर्नल तरसेम जसवाल, सलोह, ऊना (रि.)

* पाकिस्तान को आखिरकार मुंह की खानी पड़ी है। इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस के फैसले से जाधव की फांसी रुक गई है। अब आखिरी फैसले का इंतजार है। इसमें भी भारत की जीत होगी और पाकिस्तान के नापाक इरादे दुनिया के सामने आएंगे। जाधव कुमार जासूस नहीं है, पर पाकिस्तान उन्हें जबरदस्ती जासूस बनाने पर तुला हुआ है

खुशाल सिंह ठाकुर, ब्रिगेडियर (रि.)

कश्मीर तो होगा, लेकिन पाकिस्तान नहीं होगा

news‘दिव्य हिमाचल’ एक्सीलेंस अवार्ड से सम्मानित हिमाचल पुलिस के हैडकांस्टेबल मनोज ठाकुर गुरुवार शाम मीडिया चैनलों पर जमकर छा गए। इंटरनेशनल कोर्ट द्वारा कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगाते ही जहां समूचे हिमाचल में उत्साह की लहर दौड़ गई, वहीं मनोज ठाकुर ने भी मीडिया चैनलों पर कविता के माध्यम से पाकिस्तान की जमकर खबर ली। उल्लेखनीय है कि गत वर्ष मनोज ठाकुर की जोशीली कविता ‘कश्मीर तो होगा, लेकिन पाकिस्तान नहीं होगा’ देश-दुनिया में छा गई थी। कविता के माध्यम से मनोज ने पाकिस्तान को उसकी कायरना हरकतों के लिए खूब लताड़ा था और दो-दो हाथ करने की चुनौती दी थी। कुलभूषण जाधव की फांसी टलते ही मनोज ठाकुर और उनकी इस कविता ने एक बार फिर समूचे भारत को देशभक्ति के जज्बे से सराबोर कर डाला।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें !

May 19th, 2017

 
 

पोल

क्या कोटखाई रेप एवं मर्डर केस में पुलिस ने असली अपराधियों को पकड़ा है?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates