केकड़ा कर रहा किसानों को मालामाल

नई दिल्ली— केकडा पालन के क्षेत्र में आए क्रांतिकारी बदलाव और बाजार में इसकी व्यापक मांग के कारण देश के तटीय राज्यों के किसान एक किलो से भी अधिक वजन का केकडा तैयार कर उसे 1400 रुपए या उससे भी अधिक मूल्य पर बेचकर मालामाल हो रहे हैं। कीचड़ केकडा प्रजाति की विदेशी बाजार में बढ़ रही मांग और इससे मिलने वाली विदेशी मुद्रा को ध्यान में रखते हुए मत्स्य पालन से संबंधित वैज्ञानिकों ने हाल के कुछ वर्षों में इस पर व्यापक अनुसंधान किया है और अपनी प्रौद्योगिकी एवं पालन की तकनीक को किसानों तक पहुंचाया, जिसके कारण तटीय राज्यों में इसका व्यावसायिक स्तर पर उत्पादन किया जा रहा है। समुद्री उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एमपीडा) की ओर से मंगलोर में आयोजित अक्वा अक्वारिया इंडिया 2017 में कीचड केकड़ा पालन की तकनीक का प्रदर्शन करने आए राजीव गांधी जल कृषि केंद्र (आरजीसीए) के सहायक परियोजना प्रबंधक जीके दिनाकरण ने बताया कि केकडा बाजार में आसानी से 1400 रुपए में बिक जाता है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें !

You might also like