संगठन चुनावों की हवा के बीच दिल्ली गए सीएम

newsशिमला  – मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह शुक्रवार को दिल्ली रवाना हुए हैं। उनका यह दौरा ऐसे में हो रहा है, जब प्रदेश कांग्रेस में संगठन चुनावों का बिगुल फूंका जा चुका है। सूत्रों के मुताबिक इस टूअर के दौरान उनका राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी से भी मिलने का कार्यक्रम है। इस दौरान मुख्यमंत्री संगठन चुनावों को टालने बारे अपनी व विधायक दल की राय रख सकते हैं, जिसमें विधानसभा चुनावों के मद्देनजर विधायकों व पार्टी वर्कर्ज को संगठनात्मक चुनावों में ज्यादा से ज्यादा समय जुटाने के लिए संगठन चुनाव आगे सरकाने की सिफारिश हो सकती है। कांग्रेस विधायक दल मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में पहले ही इन चुनावों को लंबित करने की सिफारिश कर चुका है, मगर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुखविंदर सुक्खू व कई अन्य नेता यह कह चुके हैं कि संगठन चुनावों से कोई फर्क नहीं पड़ेगा। यह मामला कांग्रेस केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण के सुपुर्द किया जा चुका है। अब उसी को इस बारे में कोई फैसला लेना है, लिहाजा चर्चा यही है कि मुख्यमंत्री की राहुल गांधी से बैठक के बाद इस बारे में जल्द निर्णय आ सकता है। वैसे भी प्रदेश में अभी तक जो सदस्यता अभियान 15 मई तक चला था, उससे जुड़ी प्रक्रिया ही जारी है। प्रदेश में पार्टी के लिए नियुक्त किए गए निर्वाचन अधिकारी डा. कल्ला भी प्राधिकरण के ही फैसले के इंतजार में हैं। लिहाजा चर्चा यही है कि संगठन चुनावों को वरिष्ठ नेताओं व विधायकों की दलीलों पर टाला भी जा सकता है। प्रदेश में अरसे से निष्क्रिय रही अंबिका सोनी अब खुद ही कह चुकी हंै कि उन्हें ज्यादा समय हिमाचल के लिए नहीं मिल पाएगा। सूत्रों का कहना है कि मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह चुनावी संध्या में नए प्रभारी की तैनाती को लेकर भी पार्टी आलाकमान से विचार-विमर्श कर सकते हैं। विधानसभा चुनाव अक्तूबर-नवंबर तक संभावित है। ऐसे में पार्टी प्रभारी कोई सक्रिय नेता होना चाहिए, यह पार्टी के युवा, विधायक व नेता लिखित तौर पर भी आलाकमान से मांग कर चुके हैं। चर्चा है कि इस बाबत यूपी या पंजाब से किसी युवा नेता को आगे भेजा जा सकता है।

You might also like