himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

पशु हेल्पलाइन

अपच होने पर दें कीड़ों की दवाई

मेरी एक डेढ़ साल की बछड़ी है। वह अपने आप खड़ी नहीं हो पाती। उसका खाना-पीना ठीक है। उसको पेट के कीड़ों की दवाई

व ताकत के इंजेक्शन भी लगवाएं हैं। अब क्या करें?

-सुरेश कुमार, बड़सर

खड़ा करने पर आपकी बछड़ी खड़ी हो जाती है व ठीक चलती फिरती है। इसका मतलब आपका पशु अत्यधिक कमजोर है। अभी आप अपने पशु को-

-पशु आहार एक किलो सुबह व एक किलो शाम को खिलाएं।

-खनिज मिश्रण 30-35 ग्राम प्रतिदिन खिलाएं।

-उसकी टांगों की मालिश मीठे तेल (अलसी तिल का तेल) से रोज करें।

-साथ ही पेट के कीड़ों की दवाई 21 दिन बाद दोबारा दें।

अभी आपकी बछड़ी इतनी कमजोर है कि वह अपने आप खड़ी नहीं हो सकती है। इस कमजोरी का प्रभाव उसके प्रजनन अंगों पर भी पड़ता है, जो कमजोर हो जाते हैं। इसी वजह से यह पशु शीघ्र गरमाने के लक्षण नहीं देता व अगर गर्भवती भी है तो कृत्रिम, प्राकृतिक गर्भाधान करवाने के बावजूद यह गाभिन नहीं हो पाएगी। एक अच्छी बछड़ी का 15-18 महीने में गर्भाधान हो जाना चाहिए। परंतु आपकी बछड़ी का गर्भाधान शायद अढ़ाई-तीन साल की उम्र में हो। इसी वजह से आपका भी आर्थिक व मानसिक नुकसान भी होगा। इसलिए जब भी गाय की प्रसूति होती है, तो उसके बच्चे की देखभाल वैज्ञानिक ढंग से होनी चाहिए, ताकि उसका 15-18 महीने में कृत्रिम गर्भाधान हो जाए व वह गाभिन हो जाए। अगली बार जब भी आपके पशु की प्रसूति हो तो आप निकटतम पशु चिकित्सक से मिलकर गाभिन पशु व उसके होने वाले बच्चे के बारे में अवश्य जानकारी लें, ताकि उसकी बछड़े-बछड़ी का पालन आप वैज्ञानिक ढंग से कर सकें।

मेरी एचएफएक्स गाय की प्रसूति दो महीने पहले हुई है। वह छह लीटर दूध दे रही है। उसे तरल कैल्शियम भी दे रहे हैं। परंतु हर दो-चार दिन में उसका पेट खराब हो जाता है व उसे दस्त लग जाता है। क्या करें।

-किशोर, रामपुर

ऐसा प्रतीत होता है कि आपके पशु को अपच है। अभी आप अपने पशु को-

-पेट के कीड़ों की दवाई दें।

-खनिज मिश्रण 50 ग्राम प्रतिदिन दें।

-मैबोलिव 25 मिलीलीटर प्रतिदिन 20 दिन दें।

– छह लीटर दूध पर उसे तरल कैल्शियम देने की कोई जरूरत नहीं है। आप उसका तरल कैल्शियम बंद करें। कई पशुओं को तरल कैल्शियम से भी अपच हो सकता है।

– साथ ही उसे हरा घास व सूखा घास कतरा कर मिलाकर खिलाएं। अभी आप तीन हिस्सा सूखा व एक हिस्सा हरा घास कुतरा कर मिलाकर खिलाएं। जब उसका अपच ठीक हो जाए तो सूखा व हरा घास बराबर हिस्सों में मिलाकर खिलाएं ।

डा. मुकुल कायस्थ वरिष्ठ पशु चिकित्सा अधिकारी, उपमंडलीय पशु चिकित्सालय पद्धर(मंडी)

फोनः 94181-61948

नोट : हेल्पलाइन में दिए गए उत्तर मात्र सलाह हैं।

Email: mukul_kaistha@yahoo.co.in

भारत मैट्रीमोनी पर अपना सही संगी चुनें – निःशुल्क रजिस्टर करें !

You might also like
?>