himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

पशु हेल्पलाइन

रैबीज संक्रमित पशु की लार लगने पर लगाएं इंजेक्शन

हमारे छह महीने के कुत्ते को बुखार था, फिर उसने पागलपन के लक्षण दिए व तीन दिन बाद वह मर गया। उसने मुझे नाखुन लगाए हैं, क्या करें?

—संजीव, देहरा

रैबीज संक्रमित पशु के काटने से या रैबीज संक्रमित पशु की लार त्वचा के घाव, खरोंच आदि पर लगने से फैलता है। अगर आप सुनिश्चित हैं कि केवल उसके नाखुन से आपको घाव हुआ है व उस घाव पर आपके पशु की लार नहीं लगी है, तब आपको इंजेक्शन लगवाने की कोई जरूरत नहीं है। हां, अगर आपको थोड़ा सा भी शक है कि शायद आपको उस कुत्ते की लार लगी है तो आप अवश्य अतिशीघ्र पांच इंजेक्शन का कोर्स करें।

इस बात का ध्यान रखें कि कभी भी आप संभावित रैबीज ग्रसित पशु की लार के संपर्क में आएं और फिर वह पशु मर जाए, तो आप देशी इलाज के चक्कर में न पड़ें। आप अतिशीघ्र उस जगह को जहां पर आपको काटा गया है या लार लगी है, को गर्म पानी में डिटोल, साबुन या लाल दवाई डालकर धोएं व शीघ्रतम अपने निकटतम प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र जाकर चिकित्सा अधिकारी से संपर्क करें।

कभी भी जख्म पर मिर्ची पाउडर, देशी व घरेलू पदार्थ जैसे हल्दी, एसिड आदि न लगाएं। जख्म पर पट्टी या कपड़ा भी न बांधें। यह बीमारी कभी भी किसी तरह का पानी पीने, जख्म पर किसी तरह के छिड़काव करने, मिट्टी लगाने या किसी प्रकार की मणी या नग लगाने से ठीक नहीं होती है। यह बीमारी केवल ठीक समय पर इंजेक्शन लगवाने से ठीक होती है। अगर आपको आवारा/पागल कुत्ते ने काटा है व आपने अतिश्ीघ्र इंजेक्शन लगवा कर उसका पूरा कोर्स किया है तो आप 100 प्रतिशत ठीक हो जाएंगे। अगर आपने अपने कुत्ते का टीकाकरण करवाया होता तो इस चीज की नौबत नहीं आनी थी, इसलिए आगे से आप जब भी कोई कुत्ता पालें, तो अपने निकटतम पशु चिकित्सा अधिकारी से मिलकर ठीक समय पर अपने पशु का टीकाकरण करवाएं।

हमने गाय का दूध लगवा रखा है, अभी हमें पता चला है कि जिनकी वह गाय है, कल उनका एक कुत्ता मर गया, जिसने पागलपन के लक्षण दिए थे। क्या हमें इंजेक्शन लगवाने पड़ेंगे?

—श्याम कुमार, देहरा

मैं पहले भी पशु हेल्पलाइन में लिख चुका हूं कि रैबीज का विषाणु पागल कुत्ते के काटने या लार लगने से फैलता है। पागल कुत्ते को देखने से यह नहीं फैलता है। यदि उस कुत्ते ने गाय को नहीं काटा है, तो आपको घबराने की कोई जरूरत नहीं है।

मान लिया कि उस पागल कुत्ते ने गाय को भी काटा था, परंतु अगर आपने दूध को उबाल कर पिया है, तो भी घबराने की कोई जरूरत नहीं है। रैबीज का विषाणु उबालने से कुछ सेकेंड में मर जाता है। हां अगर पागल कुत्ते ने गाय को काटा है और आपने उस गाय का कच्चा दूध पिया है, तो आप शीघ्रतम अपने चिकित्सा अधिकारी से मिलें।

डा. मुकुल कायस्थ वरिष्ठ पशु चिकित्सा अधिकारी, उपमंडलीय पशु चिकित्सालय पद्धर(मंडी)

फोनः 94181-61948

नोट : हेल्पलाइन में दिए गए उत्तर मात्र सलाह हैं।

Email: mukul_kaistha@yahoo.co.in

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

You might also like
?>