himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

पीओके में लगे आजादी के नारे

गिलगित-बाल्टिस्तान के लोग बोले, हम पाक का हिस्सा नहीं

newsनई दिल्ली— कश्मीर की आजादी की बात करने वाले पाकिस्तान के खिलाफ उसके कब्जे वाले पीओके और गिलगित-बाल्टिस्तान में फिर आजादी की मांग उठी है। यहां की राजनीतिक पार्टियों ने खुलकर पाकिस्तान का विरोध करते हुए कहा है कि हम पाकिस्तान का हिस्सा नहीं हैं। खबरों के अनुसार राजनीतिक कार्यकर्ता ताइफघुर अकबर ने आरोप लगाया कि पीओके के लोगों को देशद्रोही कहा जाता है, उन्हें नेशनल एक्शन प्लान के नाम पर जेल में डाल दिया जाता है। लोगों के साथ गुलामों की तरह बर्ताव किया जाता है। न यहां कोई सड़क है, न कोई कारखाना है। लोगों को यहां बात भी नहीं करने दी जाती है। किताबों पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। पीओके के राजनीतिज्ञ मिसफर खान ने कहा कि पाकिस्तान की राजनीतिक पार्टियों को पीओके और गिलगित-बाल्टिस्तान को लेकर नाटक खत्म करना होगा, क्योंकि ये क्षेत्र पाकिस्तान का हिस्सा नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि पीओके और गिलगिट-बाल्टिस्तान में पाकिस्तान के राजनीतिक दलों द्वारा की जा रही लूट और शोषण को रोकने की जरूरत है। बता दें कि गिलगित-बाल्टिस्तान के लोगों के राजनीतिक और आर्थिक अधिकार के लिए अपनी आवाज उठाने वाले हसनैन रामल को पाकिस्तान के आतंकवाद विरोधी कानून के अनुच्छेद 4 के तहत गिरफ्तार किया गया था। सूत्रों के अनुसार, हसनैन रामल को गिलगित-बाल्टिस्तान के लोगों से संबंधित मामलों को लेकर सोशल मीडिया पर अधिक पोस्ट करने के कारण स्थानीय कानून प्रवर्तन आधिकारियों ने हिरासत में लिया था।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

You might also like
?>