रूसी टैंकों ने कराई भारत की फजीहत

चीन से मुकाबले से पहले ही बाहर, तकनीकी खराबी के चलते पूरी नहीं कर पाए रेस

NEWSनई दिल्ली— अंतरराष्ट्रीय सैन्य खेल 2017 में भारतीय टैंक की खस्ताहालत सामने आ गई है। इस प्रतिस्पर्धा के दौरान भारत के दो टैंक तकनीकी खराबी की वजह से अपनी रेस को पूरी नहीं कर पाए। खबर के अनुसार भारत के टी-90 टैंक इस प्रतिस्पर्धा में शामिल हुए थे। इनमें से एक टैंक को रिजर्व में रखा गया था, लेकिन जिस तरह से दोनों टैंक रेस के दौरान खराब हो गए उसके चलते भारतीय टीम को रेस से बाहर होना पड़ा और इस प्रतिस्पर्धा में भारत को अयोग्य घोषित करके बाहर कर दिया गया। यहां गौर करने वाली बात यह है कि इस प्रतियोगिता में भारतीय टैंक बेहतर प्रदर्शन कर रहे थे और उसे जीत का प्रबल दावेदार माना जा रहा था, लेकिन जिस तरह से बीच प्रतियोगिता में यह टैंक खराब हुए उसके बाद भारतीय खेमे को मायूसी का सामना करना पड़ा और भारतीय टैंकों को प्रतियोगिता से बाहर कर दिया गया। भारतीय खेमे के बाहर होने के बाद अब रूस, बेलारूस, कजाकिस्तान और चीन के फाइनल मुकाबले में पहुंच गए हैं। इस रेस में रूस और कजाकिस्तान के टी-72 बी थ्री टैंक, बेलारूस का टी-72 और चीन का 96बी टैंक शामिल है। भारत के जो टैंक इस रेस से बाहर हुए हैं उन्हें रूस ने डिजाइन किया था। पहले इस बात के कयास लगाए जा रहे थे कि इस रेस में भारत स्वनिर्मित टैंक अर्जुन के साथ मैदान में उतरेगा, लेकिन आखिर में भारत ने रूस द्वारा बनाए गए टी-72 टैंक से साथ उतरने का फैसला लिया, लेकिन आखिरी समय पर भारत की टीम इस टैंक से संतुष्ट नहीं थी। लिहाजा आखिरी वक्त पर टी-90 टैंकों को मंगाया गया था।

टीम में कई लोग

बता दें कि इस अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में 19 टीमों ने हिस्सा लिया था, जिसमें कुल चार टीमें फाइनल के लिए पहुंची हैं। हर एक टीम के भीतर कुल 21 सदस्य हैं। टीम में अहम सदस्यों के अलावा एक कोच, और तकनीकी टीम के भी लोग हैं जो टैंक में आई दिक्कतों को सही करने का काम करते हैं। इस प्रतियोगिता में कुल तीन राउंड हैं।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

You might also like